२०१८ आ गया।

२०१८  आ गया। . २०१७ बोझ की तरह सर पर बैठा था।  जो बीत गई वो बीत गई। 
२०१८ आ गया। २०१८  आ गया। Reviewed by Sushil Gangwar on January 02, 2018 Rating: 5

No comments