रुकते रुकते रुक जाना है।

रुकते रुकते रुक जाना है।

जिंदगी तो एक बहाना है।

गर्दिश में जिन्दा होकर बस    ासु बहाना है।

सुशील। 
रुकते रुकते रुक जाना है। रुकते रुकते रुक जाना है।  Reviewed by Sushil Gangwar on June 27, 2017 Rating: 5

No comments