Sakshatkar.com - Filmipr.com - Worldnewspr.com - Sakshatkar.org

समपर्ण गायन में है। . प्रीती भल्ला





किसी ने सच कहा है जो करो दिलो जान से करो। मैंने एम बी ए पुणे से किया। गायकी मेरी जिंदगी है।

मै इसके बिना अपनी जिंदगी को अधूरा मानती हु। पिता आर्मी अफसर थे। वह भी अच्छा गाते है। गायकी तो मुझे गॉड गिफ्ट में मिली है फिर भी मैंने क्लासिकल सीखा है।

पिछले दस साल से बॉलीवुड में हु। अभी मेरी फिल्म मेरी कॉम आयी है उसमे मैंने बैकगॉउन्ड में सांग गाया है। 

वैसे मैंने काफी एल्बम की है। जिसमे जलवा २ , मेरा ये मन , गिरधर के रंग , क्रिमिश कैरोल्स - इंग्लिश , वन्देमातरम आदि कर चुकी हु।

कुछ एलबम मैंने अनूप जलोटा जी के साथ किये है पिछले काफी सालो से स्टेज में शो में काफी व्यस्त थी , मै उस दिन को कभी नहीं भूल सकती हु जब मैंने आशा जी के साथ एक गाना किया था। .

हम वाजा बजा देंगे। मुझे हर भाषा में गाना पसंद है। बॉलीवुड में काफी कैंप है। . कैंप में घुसने से फर्क नहीं पड़ता है हां आपके पास टैलेंट है तो आपको काम बिना कैंप के भी मिल सकता है

मैं ये जरूर कहूँगी। . हर चीज के फायदा भी है और नुक्सान भी। अगर गायकी की बात करे तो लता और आशा जी नाम सबसे पहले आता है 

वो ही मेरी आइडियल है। जो सीखा है उनको सुन सुन कर ही सीखा है। 


This interview taken by Editor Sushil Gangwar  for Sakshatkar.com 

No comments:

Post a Comment