Top Ad 728x90

  • Sakshatkar.com - Sakshatkar.org तक अगर Film TV or Media की कोई सूचना, जानकारी पहुंचाना चाहते हैं तो आपका स्वागत है. आप मेल के जरिए कोई जानकारी भेजने के लिए mediapr75@gmail.com का सहारा ले सकते हैं.

Tuesday, 9 February 2016

तीसरे रीटेक में निदा फ़ाज़ली बिफर गए और कुर्सी से उठते हुए चिड़चिड़ाकर बोले- मैं नहीं करता...

Abhishek Srivastava : शायद 2011 की गर्मी का मौसम था जब निदा फ़ाज़ली को रिकॉर्ड करने मैं करोलबाग के एक होटल में पहुंचा था। साथ में कैमरामैन नेगीजी थे। हम लोग कमरे में पहुंचे, तो बनियान में एक शख्‍स बिस्‍तर पर बेतरतीब लेटा हुआ था। उसके गले में सोने का एक मोटा सा सिक्‍कड़ लटक रहा था। नीचे पाजामे का नाड़ा झूल रहा था। जब देह ऊपर उठी, तो दोनों के बीच थोड़ा अस्‍त-व्‍यस्‍त, थोड़ा अचकचाए, अन्‍यमनस्‍क से निदा फ़ाज़ली बरामद हुए। बेहद संतुलित मुस्‍कराहट के साथ उन्‍होंने हमसे लाउंज में इंतज़ार करने को कहा। उतनी देर में नेगीजी ने गमले के पास कुर्सी रखकर फ्रेम बना लिया।
थोड़ी देर बाद निदा भारी कदमों से बाहर आते दिखे। उनका सिल्‍क का कुर्ता ऐसा कड़क था कि छू जाए तो चमड़ी भेद दे। उन्‍हें फ्रेम समझाया गया। कुर्सी पर बैठाया गया। शूट चालू हुआ तो एक कमज़र्फ़ मक्‍खी उनकी नाक के पास मंडराने लगी। नेगीजी ने मुझसे उसे भगाने को कहा। 'नमक हलाल' का अमिताभ बच्‍चन बनने से बचने की पूरी कोशिश मैंने की, लेकिन मक्‍खी जाने से रही और तीसरे रीटेक में निदा बिफर गए। कुर्सी से उठते हुए चिड़चिड़ाकर बोले, ''मैं नहीं करता... Nazim से कह देना बस हो गया।'' बड़ी मुश्किल से उन्‍हें मना तो लिया गया, लेकिन कहन का मज़ा जाता रहा। अपनी लाइनें सपाट बोलकर बिना मुस्‍कराए वे कमरे में कट लिए।
पिछले साल जब लेखक असहिष्‍णुता के विरोध में पुरस्‍कार लौटा रहे थे, तब लंबे समय बाद निदा से फोन पर बात हुई। वे इस हरकत को बेवकूफ़ाना कह रहे थे। सुनकर मूड तो खराब हुआ था, लेकिन उनका आशय कुछ ज्‍यादा गहरा था जो बाद में समझ आया। हम लोगों ने दुनिया में जो पाले खींच दिए हैं, उनमें हर किसी को फिट करने की खामखां कोशिश में लगे रहते हैं। पुरस्‍कार वापसी के विरोध और समर्थन के अलावा एक तीसरा पक्ष भी था। यह पक्ष निदा का था, जिसे बाद में Punya Prasun Bajpai ने बड़ी खूबसूरती से एक वीडियो में बयां किया था। देखिए, रचनाकारों की ऐतिहासिक बग़ावत पर निदा क्‍या कह गए हैं:
ईनामों को वापिस करने से क्‍या होगा / अख़बारों में जीने-मरने से क्‍या होगा
क़लम तुम्‍हारे लिखना-लिखाना भूल चुके हैं / नाइंसाफ़ी से टकराना भूल चुके हैं
घर से निकलकर बाहर आओ / चलकर धूप से हाथ मिलाओ
या फिर अपना गुस्‍सा लेकर उजड़े हुए बग़दाद में जाओ
और किसी लिखने वाले के धूल भरे जूतों से पूछो
कैसे दर्द लिखा जाता है, कैसे बात कही जाती है।
स्वतंत्र पत्रकार और मीडिया एक्टिविस्ट अभिषेक श्रीवास्तव के फेसबुक वॉल से

0 comments:

Post a Comment

Top Ad 728x90