Top Ad 728x90

  • Sakshatkar.com - Sakshatkar.org तक अगर Film TV or Media की कोई सूचना, जानकारी पहुंचाना चाहते हैं तो आपका स्वागत है. आप मेल के जरिए कोई जानकारी भेजने के लिए mediapr75@gmail.com का सहारा ले सकते हैं.

Friday, 20 February 2015

मैंने तो अपनी शुरुआत गुजरात से आकर थिएटर से की थी। ......तृप्ति अग्रवाल

,मैंने अपनी शुरुआत  थिएटर से की थी।---तृप्ति अग्रवाल,,,...तृप्ति अग्रवाल


बॉलीवुड में आना तो दस साल पहले हुए।  इस मुकाम को हासिल करने में पूरा दस साल लगा है।  परन्तु मै खुश हु अपने करियर को लेकर।

  मैंने तो अपनी शुरुआत गुजरात से आकर थिएटर से की थी।  थिएटर एक ऐसी जगह है जो हर कलाकार को पोलिश कर देता है।  मैंने जो कुछ भी सीखा है थिएटर से  सीखा है।

मैंने   सीरियल उतरन , ये रिश्ता क्या कहलाता है ,  सावधान इंडिया , क्राइम पेट्रोल ,  फियर फाइल  और फिल्म लाइफ की लग गई , गुलाबी गैंग आदि की है, मेरी आने वाली फिल्मे धर्म संकट  आदि है।  ,

कोम्प्रोमाईज़ उफ़ ये तो बॉलीवुड है।  अच्छे और बुरे लोग दोनों है आपको ख़ुद  सेलेक्ट करना होगा।  लोग एक्टर और एक्ट्रेस  बनने के लिए आते है अगर उनको काम मिलने में दिक्कत होती है और अपने खर्चे पूरे करने के लिए गलत रास्ता  अख्तियार कर लेते है।

मगर शार्ट कट शार्ट होता है।  अगर आपको लम्बी रेस में शामिल होना चाहते है तो अपने टलैण्ट  पर काम करे।  खुद पर काम करे।  एक्टिंग थिएटर से सीखे  .फिर आप बॉलीवुड में आये।


अब बॉलीवुड फर्जी लोगो का अड्डा बनता जा रहा है वो लुक टेस्ट के नाम पर लोगो का डाटा बना रहे है।  बहुत कम  लोगो को काम मिल पता है।  सारा काम चेंनल के हाथ में आ गया वो अपने  हिसाब  से काम देते है।
 पहले ये सब डायरेक्टर और प्रोडूसर के हाथ में होता था तो काम मिल जाता है।  अब तो बहुत कठिन हो चुका है।

This interview taken by Editor Sushil Gangwar for Sakshatkar.com - Mediadalal.com 

0 comments:

Post a Comment

Top Ad 728x90