Top Ad 728x90

  • Sakshatkar.com - Sakshatkar.org तक अगर Film TV or Media की कोई सूचना, जानकारी पहुंचाना चाहते हैं तो आपका स्वागत है. आप मेल के जरिए कोई जानकारी भेजने के लिए mediapr75@gmail.com का सहारा ले सकते हैं.

Wednesday, 5 November 2014

हमारी सोच अच्छी होनी चाहिए। । सौम्या राजपूत

हमारी सोच अच्छी होनी चाहिए। सौम्या राजपूत ..

मेरी   एक्टिंग  की शुरुआत तो बचपन में हो गयी थी , घर का माहौल ही कुछ ऐसा था।  मेरा पिता बैंक में रहते हुए अपनी रुचिओ को पूरा कर रहे थे।  वो अच्छे बासुरी बादक थे।  जब मैंने अपने पिता से कहा कि  मै बॉलीवुड में अपना करियर बनाना चाहती हु .

तो मेरे पिता ने बॉलीवुड के बारे में अच्छी और बुरी बातो से अवगत  किया।  फिर  मेरठ  से दिल्ली शिफ्ट हो गयी।  वहा मैंने उर्वशी ग्रुप को ज्वाइन कर लिया।  ये मेरे जीवन का नया मोड़ था।  दिल्ली में रहते हुए मैंने दूरदर्शन के काफी टीवी सीरियल किये।

बॉलीवुड में अभी मुझे आठ साल गुजर चुके है। . काफी काम कर चुकी हु। . मैंने  उ फोरिआ ग्रुप  के साथ साथ  हिंदी म्यूजिक एल्बम  मेरे इश्क में लाखो लड़के , शार्ट फिल्म  फिर ख़ामोशी  की है।

मैंने तमिल फिल्म कुलशीकरण कुली, पडियम , कसिकु  बबम , तेलगु फिल्म ओह्ह चित्रम , वाल पोस्टर , कन्नड़ फिल्म कब्बड्डी आदि की है।मेरी आने वाली फिल्म   दिल ज़ी आ रही है।

जो लोग बॉलीवुड में आना चाहते है
वो अपने टैलेंट के भरोसे आये।  बॉलीवुड में आने से पहले थिएटर या एक्टिंग कोर्स करके अपने को पोलिश कर ले।  वैसे तो एक्टर जन्मजात होता है।

एक्टिंग को आप लोग करियर के ऑप्शन के रूप में ले सकते है मगर अपने आप को पूरी तरीके से तोल  ले।  खाली भटकने से कोई फायदा नहीं।  जो भी करे दिल से करे।


This Interview taken by Sushil Gangwar for www.sakshatkar.com - Call -09820296788

0 comments:

Post a Comment

Top Ad 728x90