Sakshatkar.com - Filmipr.com - Worldnewspr.com - Sakshatkar.org

विशाल भारद्वाज की 'हैदर' महाबकवास और बहुत भटकी हुई फिल्म है : दयानंद पांडेय

Dayanand Pandey : विशाल भारद्वाज की हैदर महाबकवास और बहुत भटकी हुई फ़िल्म है, लेकिन लोग हैं कि जाने क्यों तारीफ़ पर तारीफ़ झोंके जा रहे हैं. अजब भेड़चाल में फंस गए हैं लोग इस फ़िल्म को ले कर. और हद तो देखिए कि विशाल भारद्वाज ने हिंदू अख़बार में एक बयान झोंक दिया है कि अगर मैं वामपंथी नहीं हूं , तो मैं कलाकार ही नहीं हूं. बस इतने भर से वामपंथी साथी भी लहालोट हैं. हालांकि इस फ़िल्म का वामपंथ से भी क्या सरोकार है, यह समझ से क़तई परे है. 
आंख में धूल झोंकने की भी एक हद होती है. कोढ़ में खाज यह भी कि फ़िल्म प्रकारांतर से कश्मीर में पाकिस्तानी आतंकवाद के प्रति बड़ा पाजिटिव रुख़ दिखाती है. न गाने किसी करम के हैं न संगीत, न पटकथा, न निर्देशन. बेवज़ह वक्त खराब किया है सो किया ही है, शेक्सपीयर के नाम पर जो बट्टा लगाया है सो अलग. फैज़ की रचनाओं का इससे बुरा इस्तेमाल भी नहीं हो सकता था. कुलभूषण खरबंदा, तब्बू और इरफ़ान जैसे अभिनेताओं की अभिनय क्षमता का दोहन भी फ़िल्म को कूड़ा होने से नहीं बचा पाता.
पत्रकार और साहित्यकार दयानंद पांडेय के फेसबुक वॉल से

साक्षात्कार डाट काम

साक्षात्कार डाट काम सूचित करता है। अब उन ही खबरों को अपडेट किया जाएगा , जिस इवेंट , प्रेस कांफ्रेंस में खुद शरीक हो रहा हू । इसका संपादन एडिटर इन चीफ सुशील गंगवार के माध्यम से किया जाता है। अगर कोई ये कहकर इवेंट , प्रेस कॉन्फ्रेंस अटेंड करता है कि मै साक्षात्कार डाट कॉम या इससे जुडी कोई और न्यूज़ वेबसाइट के लिए काम करता हू और पैसे का लेनदेन करता है, तो इसकी जिम्मेदारी खुद पी आर की होगी। इसको लेकर उसकी कोई न्यूज़ साक्षात्कार डाट कॉम पर नहीं लगायी जायेगी। ..