धर्म की आड़ में हिन्दुओ को बाटने की नाकाम कोशिश

  धर्म की आड़ में हिन्दुओ को बाटने की नाकाम कोशिश हो रही है।  मै तो सोच  सोच कर परेशान हो जाता हु।  अगर कोई हिन्दू साईं की पूजा करता है तो क्या बुराई है।  मै साईं को मानता हु  और बाकी सभी हिन्दू देवी देवताओ को पूजता हु।  मुझे समझ में नहीं आता है ये धर्म के मुद्दे आखिर क्यों उठ जाते है।  इसके पीछे किसी की क्या मंशा है।  कही ये वो ताकते  तो नहीं जो एक बार फिर हिन्दू को हिन्दू से अलग करने की फिराक में घूम रही है।  खैर ये हर किसी की आस्था का विषय है। .

एडिटर
सुशील गंगवार
साक्षात्कार डाट।कॉम 
धर्म की आड़ में हिन्दुओ को बाटने की नाकाम कोशिश   धर्म की आड़ में हिन्दुओ को बाटने की नाकाम कोशिश Reviewed by Sushil Gangwar on July 02, 2014 Rating: 5

No comments