वरिष्ठ पत्रकार अनुरंजन झा का मत, सिर्फ इसलिए तनु का फेवर न हो क्योंकि उसने आत्महत्या की कोशिश की...


मैं नहीं जानता कि यह तनु शर्मा कौन है ... खबर पढ़ी कि उसने आत्महत्या की कोशिश की... उसके बाद से सोशल साइट्स, ब्लॉग्स और ऐसे तमाम माध्यमों पर लगतार इंडिया टीवी और वहां की टीम को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया जा रहा है .... लेकिन मैं जानता हूं कि इंडिया टीवी क्या है... शायद इंडिया टीवी आज के दौर में उन चंद संस्थानों में है जहां महिलाएं सबसेज्यादा सुरक्षित हैं... मैं अनीता शर्मा को भी जानता हूं ... एक अच्छी दोस्त और बड़ी बहन सा स्नेह मिलता है उनसे .... एम एन प्रसाद कंपनी के वफादार जिनके लिए सब बराबर हैं ... और हां रितु जी और रजत जी मौका देने से पीछे नहीं हटते ... लेकिन तनु शर्मा को आत्महत्या के लिए उकसाने जैसी घटना पर हमें भरोसा नहीं होता। सच सामने आना चाहिए, लोगों को मालूम होना चाहिए कि आखिर ऐसा क्या हुआ कि चंद महीने पहले आई इस एंकर ने ऐसा आरोप गढ़ा और ऐसी हरकत की जबकि पिछले एक दशक पुराने इस चैनल और तकरीबन 2० साल पुराने इस संस्थान में कभी ऐसा नहीं सुनने को नहीं मिला...

ऐसा क्या हुआ कि यह एंकर आत्महत्या की कोशिश पर मजबूर हुई साथ ही सोशल मीडिया पर मेसेज छोड़ जहर लेकर वो दफ्तर क्यों आई.... बहुत सवाल हैं .... सिर्फ इसलिए तनु शर्मा को फेवर नहीं किया जा सकता क्योंकि उसने आत्महत्या की कोशिश की है... और सिर्फ इसलिए यह संस्थान और यहां के लोग गलत हैं हमारे गले नहीं उतरता ....
(अनुरंजन झा की फेसबुक वॉल से)
वरिष्ठ पत्रकार अनुरंजन झा का मत, सिर्फ इसलिए तनु का फेवर न हो क्योंकि उसने आत्महत्या की कोशिश की... वरिष्ठ पत्रकार अनुरंजन झा का मत, सिर्फ इसलिए तनु का फेवर न हो क्योंकि उसने आत्महत्या की कोशिश की... Reviewed by Sushil Gangwar on July 02, 2014 Rating: 5

No comments