वक़्त इन्सान को सब कुछ सीखा देता है। . रंजना

मैंने कभी नहीं सोचा था कि मै बॉलीवुड में आउगी। . बी ई करने बाद मैंने  एक्टिंग की ट्रेनिंग बनवारी लाल झोल से ली।  वो मेरे गुरु है और गुरु रहेंगे।  आज जो कुछ भी हु वो अपने  एक्टिंग गुरु बनवारी जी की बजह से हु।

बॉलीवुड में मैंने बहुत सीखा।  .बाकी तो बॉलीवुड की रीति है काम करते करते लोग सीखा देते है।  एक्टिंग एक ऐसा कीड़ा है जो एक बार किसी की जेहन में घुस जाये तो वो बस एक्टिंग ही करेगा. कुछ ऐसा ही हाल मेरा है।

अभी तो मेरी बॉलीवुड में शुरुआत है।  अभी मैंने  टीवी सीरियल फियर फाइल , सावधान इंडिया , पुलिस फाइल आदि किये है।  अभी कुछ हिंदी फिल्मो के ऑफर आ  रहे है।  मै सोच समझ कर फिल्मे और टीवी सीरियल  करना चाहती हु।

मुझे कोई जल्दी नहीं है न जल्दी में हु।  वक़्त इन्सान को सब कुछ सीखा देता है।  आने वाला समय अपना है।  उसका मुझे इंतजार है। मै शार्ट कट से कुछ भी नहीं करना चाहती हु।  शार्ट कट का रास्ता और भविष्य भी शार्ट होता है।  इसलिए मैंने लॉन्ग वे से जाना पसंद करुँगी।



एडिटर
सुशील गंगवार 
वक़्त इन्सान को सब कुछ सीखा देता है। . रंजना वक़्त इन्सान को सब कुछ सीखा देता है। . रंजना Reviewed by Sushil Gangwar on June 17, 2014 Rating: 5

No comments