दिल्ली की शोले : जब तक है जान.. जाने जहान मै नाचूंगी


दिल्ली की शोले : जब तक है जान.. जाने जहान मै नाचूंगी

गले तक भ्रष्टाचार में डूबा, जेल जाने वाली शीला का पैरोकार, एक दो कौड़ी का सरदार सदन में एलानिया तौर पर आम आदमी के नायक को पाक साफ़ रहने की नसीहत दे रहा है.
मित्रों जिस सरदार के किरदार की पगड़ी कोई भी खोजी पत्रकार दो दिन के स्टिंग में उछाल दे...वो छोटा सरदार ..आपके अरविन्द को ये कह रहा की आपने सब्सिडी पूछकर किस से दी..आपने पानी का दाम, बिजली का दाम किस से पूछ के कम किया . आपके अफसर ठीक नही..आप फैसले सही लो. अब अरविंदर बताएगा अरविन्द को ?

मित्रों १५ साल के राज में ९०० चूहे खाना वाला सरदार और उसका दल ...आपके अरविन्द को एक हाथ से समर्थन दे रहा है और दूसरे हाथ से लानत ..जेल जाने वाले लोग अब जेल भेजने वालों को नसीहत देंगे . क्या आठ विधायक देने से इन्होने अरविन्द को अपना सखा मान लिया है ? क्या सन्या भए कोतवाल तो ये सरदार अब डरेगा नहीं ?
...................................................................................................
मेरे "आप वाले" जो मित्र ३० साल से कम उम्र के है वो ३ जनवरी को रिलीज़ हुई 3D शोले ज़रूर देखें. शोले में एक गाने पर वो ख़ास गौर करें. वो गाना जिसमे बसंती को गब्बर नचा रहा है ...सामने धर्मेन्द्र बेड़ियों में बंधा है...आठ बंदूकों की नाल धर्मेन्द्र पर है और बसंती को गब्बर कांच के टुकड़ों पर नचा रहा है...ये गाना अब दिल्ली की शोले की नग्न कथा है...

शीला का दो कौड़ी का सरदार गब्बर बन गया है ....उसूलों वाला अरविन्द अब बसंती है और हम और आप ...जी हाँ बसंती से मोहब्बत करने वाले आम आदमी धर्मेन्द्र की तरह बेड़ियों में बाँध दिए गये हैं... पहले गाना सुन लीजिये फिर आखिर में पंच लाइन पदियेगा

जब तक है जान जाने जहां मै नाचूंगी

आदोलन कभी भी मरता नहीं
सत्ता से भी डरता नहीं
लुट जायेंगे, मिट जायेंगे, मरजाएंगे हम
जिंदा रहेगी हमारी दास्तान

जब तक है जान जाने जहां मै नाचूंगी

टूट जाये झाड़ू तो क्या
पाँव हो जाय घायल तो क्या
वोट लिया है पानी दिया है
दांव खेला है तो देना पड़ेगा उसूलों का इम्तिहान

जब तक है जान जाने जहां मै नाचूंगी

ये टोपी झुक सकती नहीं
ये झाड़ू रुक सकती नहीं
मे कहूँगी, गम सहूंगी, चुप रहूंगी, क्या ?
बेबस हूँ लेकिन नहीं मै बेजुबान ...
जब तक है जान जाने जहान..मै नाचूंगी
............................................................................................

पंच लाइन : सत्ता मे हर एक फ्रेंड कमीना होता है
दिल्ली की शोले : जब तक है जान.. जाने जहान मै नाचूंगी दिल्ली की शोले : जब तक है जान.. जाने जहान मै नाचूंगी Reviewed by Sushil Gangwar on January 04, 2014 Rating: 5

No comments

Post AD

home ads