Top Ad 728x90

  • Sakshatkar.com - Sakshatkar.org तक अगर Film TV or Media की कोई सूचना, जानकारी पहुंचाना चाहते हैं तो आपका स्वागत है. आप मेल के जरिए कोई जानकारी भेजने के लिए mediapr75@gmail.com का सहारा ले सकते हैं.

Sunday, 5 January 2014

क्या आईबीएन 7 के संपादक आशुतोष ने आम आदमी पार्टी ज्वाइन कर लिया है या फिर ये समझ लिया जाए कि आईबीएन7 आम आदमी पार्टी का मुखपत्र है?

क्या आईबीएन 7 के संपादक आशुतोष ने आम आदमी पार्टी ज्वाइन कर लिया है या फिर ये समझ लिया जाए कि आईबीएन7 आम आदमी पार्टी का मुखपत्र है? 

मैं आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता की तरह आशुतोष को दलाल या बिका हुआ पत्रकार तो नहीं लिख सकता क्योंकि पोस्ट किए फोटो से तो यह प्रतीत नहीं होता है. लेकिन जिस तरह से टांग उठाकर आशुतोष बैठे हैं वो इनकी "नजदीकियां" बता रहा है.. खैर.. इसमें कोई बुराई नहीं है.. लेकिन हर शाम अपने चैनल के जरिए देश को गुमराह करने से पहले यह जरूर बता देना चाहिए था कि उनकी आम आदमी पार्टी के नेताओं की बस दोस्ती है.. और वो इस पार्टी के न तो दलाल हैं और न ही उन्हें पैसे दिए गए हैं.. और न ही वो पार्टी के सदस्यता ले रखी है.. कम से कम निष्पक्ष पत्रकारिता की लाज थोड़ी बच जाती... मैं ऐसा इसलिेए लिख रहा हूं क्योंकि इस महान पत्रकार ने कई बार चुनाव के दौरान झूठ बाते बोलकर सनसनी फैला कर आम आदमी पार्टी की मदद की थी.. आशुतोष आम आदमी पार्टी के चुनावी कैंपेन का एक अहम हिस्सा रहे हैं..  यह फोटों एक "निष्पक्ष" पत्रकार की "निष्पक्षता" का सबूत है जो डंके की चोट पर अपने राजनीतिक विरोधियों को चोट पहुंचाता है..

यह चित्र चुनाव के बाद का है.. क्योंकि फोटो में दिखने वाले नेता-कलाकार इसी कपड़े में नजर आ रहे हैं.. इस फोटो को मैंने पवन अवस्थी जी के वॉल से मैंने बिना अनुमति के उधार ले लिया.. क्योंकि यह फोटो है ही इतना दिलचस्प है कि खुद को रोक नहीं पाया.. वैसे इस फोटो को देखकर अपनी प्रतिक्रिया जरूर लिखे और डंके की चोट पर लिखें...
क्या आईबीएन 7 के संपादक आशुतोष ने आम आदमी पार्टी ज्वाइन कर लिया है या फिर ये समझ लिया जाए कि आईबीएन7 आम आदमी पार्टी का मुखपत्र है?

मैं आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता की तरह आशुतोष को दलाल या बिका हुआ पत्रकार तो नहीं लिख सकता क्योंकि पोस्ट किए फोटो से तो यह प्रतीत नहीं होता है. लेकिन जिस तरह से टांग उठाकर आशुतोष बैठे हैं वो इनकी "नजदीकियां" बता रहा है.. खैर.. इसमें कोई बुराई नहीं है.. लेकिन हर शाम अपने चैनल के जरिए देश को गुमराह करने से पहले यह जरूर बता देना चाहिए था कि उनकी आम आदमी पार्टी के नेताओं की बस दोस्ती है.. और वो इस पार्टी के न तो दलाल हैं और न ही उन्हें पैसे दिए गए हैं.. और न ही वो पार्टी के सदस्यता ले रखी है.. कम से कम निष्पक्ष पत्रकारिता की लाज थोड़ी बच जाती... मैं ऐसा इसलिेए लिख रहा हूं क्योंकि इस महान पत्रकार ने कई बार चुनाव के दौरान झूठ बाते बोलकर सनसनी फैला कर आम आदमी पार्टी की मदद की थी.. आशुतोष आम आदमी पार्टी के चुनावी कैंपेन का एक अहम हिस्सा रहे हैं.. यह फोटों एक "निष्पक्ष" पत्रकार की "निष्पक्षता" का सबूत है जो डंके की चोट पर अपने राजनीतिक विरोधियों को चोट पहुंचाता है..

यह चित्र चुनाव के बाद का है.. क्योंकि फोटो में दिखने वाले नेता-कलाकार इसी कपड़े में नजर आ रहे हैं.. इस फोटो को मैंने पवन अवस्थी जी के वॉल से मैंने बिना अनुमति के उधार ले लिया.. क्योंकि यह फोटो है ही इतना दिलचस्प है कि खुद को रोक नहीं पाया.. वैसे इस फोटो को देखकर अपनी प्रतिक्रिया जरूर लिखे और डंके की चोट पर लिखें..

Sabhar- Manish Kumar ji wall se ....
.

0 comments:

Post a Comment

Top Ad 728x90