न्यूज़ चैनलों ने साबित किया कि मीडिया में मीडिया वालों की भी बनती हैं खबरें

रमेश ठाकुर
राजनेताओं व आम लोगों में एक धारणा थी कि मीडिया वाले खुद अपनी खबरों को नहीं दिखाते, लेकिन तहलका मसले पर पिछले 48 घंटों से लगातार न्यूज चैनलों पर उससे जुड़ी खबरों को दिखाकर यह साबित कर दिया है कि खबर किसी की भी बन सकती है। चुनावी मौसम में तहलका प्रकरण पर महाकवरेज करके मीडिया ने लोगों में अपनी गिरती इमेज को बरकरार रखा है।
29 व 30 नवंबर को देश के सभी चैनलों पर सिर्फ तहलका प्रकरण की ही खबरे दिखाई गई। अगर पक्षपात वाली बात होती तो आज मीडिया इस खबर को हजम कर सकता था। तरून तेजपाल मीडिया के हस्ताक्षर हैं, जो उनको करीब से जानते-समझते हैं और अब तक दोस्त कहते थे, वह भी उनके खिलाफ बोल रहे हैं, कि तेजपाल ने बहुत गलत किया।
आसाराम के मुद्दे पर लोगों ने मीडिया को कटघरे में खड़ा कर दिया था और उसे मीडिया टृायल की संज्ञा दे डाली थी। दुनिया को पता है कि तहलका ने सरकारी तंत्र में फैली करप्शन नाम के दीमक को खत्म करने की सबसे पहले पहल की थी, उन्होंने अपनी खबरों से कई धमाके किए थे। पर आज उनके प्रति मीडिया में तनिक भी रहम नहीं है। उनकी सारी कलई मीडिया एक-एक करके खोल रहा है।
(युवा मीडिया समीक्षक रमेश ठाकुर, संपर्क ramesht2@gmail.com)
sabhar- mediakhabar.com
न्यूज़ चैनलों ने साबित किया कि मीडिया में मीडिया वालों की भी बनती हैं खबरें न्यूज़ चैनलों ने साबित किया कि मीडिया में मीडिया वालों की भी बनती हैं खबरें Reviewed by Sushil Gangwar on December 02, 2013 Rating: 5

No comments