Top Ad 728x90

  • Sakshatkar.com - Sakshatkar.org तक अगर Film TV or Media की कोई सूचना, जानकारी पहुंचाना चाहते हैं तो आपका स्वागत है. आप मेल के जरिए कोई जानकारी भेजने के लिए mediapr75@gmail.com का सहारा ले सकते हैं.

Tuesday, 31 December 2013

बंदूक के साये में अनिरूद्घ


Page 1 copyदेश के जाने-माने पत्रकार अनिरूद्घ बहल को अब जान बचाना मुश्किल हो रहा है। उनके खुलासों ने देश के कई लोगों और संगठनों की नींद उड़ा दी है। अब यह लोग अनिरूद्घ को ही उड़ाने की सोंच रहे हैं। खुफिया विभाग की रिपोर्ट के बाद केंद्र सरकार में खलबली मच गयी है। अनिरूद्घ बहल को वाई श्रेणी की सुरक्षा देने के आदेश हो गये हैं। उत्तर प्रदेश के डीजीपी और चीफ सेकेरेट्री को इसकी सूचना दे दी गयी है। देश में संभवत: अनिरूद्घ बहल पहले पत्रकार होंगे जिन्हें इस तरह की सुरक्षा दी जा रही है। अनिरूद्घ बहल पर हमला करने की साजिश की खबर ने यूपी पुलिस को भी हलकान कर दिया है। तहलका के संपादक तरूण तेजपाल और अनिरूद्घ बहल की जोड़ी ने देश की पत्रकारिता में कई नये मुकाम हासिल किए हैं। एनडीए सरकार के समय तहलका और कोबरा पोस्ट आतंक का पर्याय हो गये थे। अनिरूद्घ बहल कोबरा पोस्ट के संपादक थे। इन लोगों की टीम ने दिखाया था कि वाजपेई सरकार के रक्षा मंत्री जार्ज फर्नाडीज और उनके सहयोगी किस तरह हथियारों और कारगिल शहीदों के ताबूत में कमीशनखोरी कर रहे थे। इन्हीं लोगों ने भाजपा के राष्टï्रीय अध्यक्ष बंगारू लक्ष्मण को एक लाख रूपये की रिश्वत लेते हुए दिखाया था। जिसके बाद न सिर्फ उन्हें भाजपा अध्यक्ष पद से इस्तीफा देना पड़ा था बल्कि जेल भी जाना पड़ा था। गुजरात दंगों में भी कोबरा पोस्ट के खुलासे ने हड़कंप मचा दिया था। पूरे देश में भाजपा की इन खुलासों के बाद भारी फजीहत हुई थी।
इस बीच तरूण तेजपाल एक युवती से आपत्ति जनक व्यवहार के चलते जेल में हैं। भाजपा नेताओं ने तरूण तेजपाल के जेल जाने से बेहद राहत महसूस की और उनके खिलाफ नैतिकता के बड़े-बड़े भाषण भी दिये। मगर इस बीच अनिरूद्घ बहल के सहयोगी गुलेल के आशीष खेतान ने जो टेप जारी किए उसने भाजपा के सारे सपनों पर ही ग्रहण लगा दिया। यह टेप भाजपा के प्रधानमंत्री पद के प्रत्याशी नरेन्द्र मोदी द्वारा अपने गृह मंत्री अमित शाह के जरिए एक युवती का पीछा किए जाने की रिकॉर्डिंग थी। इन रिकॉर्डिंग के बाद सरकार ने एक आयोग बनाकर इस जासूसी कांड की जांच के आदेश कर दिये। यह मोदी की छवि पर सीधा हमला था। भाजपा इस हमले से सकते में थी।
इस बीच अनिरूद्घ बहल ने सनसनीखेज खुलासा किया कि कई कंपनियां फर्जी तरीके से सोशल साइट्ïस पर लोगों को महिमामंडित कर रही हैं और उनके विरोधियों पर हमला कर रही हैं। जाहिर है यह खुलासे भाजपा के लिए बेहद परेशानी की बात थी। क्योंकि मोदी के समर्थक सोशल साइट्ïस पर खासे सक्रिय रहते हैं और इस खुलासे के बाद सबको समझ आ गया कि फेसबुक पर किस तरह हिट और लाइक्स इकट्ïठे किए जा रहे हैं। यही नहीं अनिरूद्घ बहल ने कई बड़े अंतर्राष्टï्रीय बैंको के जरिये हवाला के माध्यम से अरबों रुपये के काले कारोबार का भी खुलासा अपनी वेबसाईट कोबरा पोस्ट के माध्यम से किया।
अनिरूद्घ बहल को अंदाजा भी नहीं होगा कि इस तरह के खुलासे करने से उनकी जान को भी इस हद तक खतरा हो सकता है। खुफिया विभाग को जानकारी मिली कि कुछ लोग इस प्रयास में हैं कि अनिरूद्घ बहल पर हमला करके उन्हें मौत के घाट उतार दिया जाये। इन लोगों का मानना है कि तरूण तेजपाल तो अब लंबी कानूनी प्रक्रिया के चलते आसानी से जेल के बाहर नहीं आ पायेंगे और अगर बाहर आये भी तो उनकी पत्रकारिता में वह धार नहीं बचेगी। और अगर इसी बीच अनिरूद्घ बहल को भी रास्ते से हटा दिया जाये तो एक ऐसा पत्रकार रास्ते से हट जायेगा जो इस तरह के षडयंत्र रचने वाले लोगों की राह में रोड़ा बना हुआ है।
खुफिया विभाग को जानकारी मिली कि कुछ लोगों को इस काम की जिम्मेदारी दी गयी है कि अनिरूद्घ बहल पर इस तरह हमला किया जाये कि वह किसी भी कीमत पर न बचने पायें। यह जानकारी मिलते ही भारत सरकार के गृह मंत्रालय में हड़कंप मच गया। वीआईपी लोगों की सुरक्षा देख रहे वीआईपी सिक्योरिटी के डायरेक्टर गिरीश कुमार ने 23 दिसंबर को अनिरूद्घ बहल को वाई कटैगरी की सुरक्षा देने के आदेश कर दिये। इस सुरक्षा के तहत अनिरूद्घ बहल के घर पर चार सशस्त्र पुलिस कर्मी हमेशा तैनात रहेंगे। दो पर्सनल सिक्योरिटी अफसर अनिरूद्घ बहल के साथ लगातार रहेंगे जिसमें एक वर्दी में अत्याधुनिक हथियार के साथ रहेगा जबकि दूसरा सादा कपड़ों में एक छोटे हथियार के साथ उनके साथ रहेगा। इसके अलावा उनके दफ्तर पर भी चार सशस्त्र पुलिस कर्मी रहेंगे और एक निजी सुरक्षा अधिकारी हथियारों के साथ रहेगा। स्वाभाविक है अब तक बेखौफ होकर अपनी खबरों के लिए सुरागरसी करने वाले अनिरूद्घ बहल के लिए अब जिंदगी इतनी आसान नहीं रह जायेगी।
अनिरूद्घ बहल पर हमले की आशंका ने मीडिया जगत में भी खलबली मचा दी है। कई पत्रकारों ने सरकार से मांग की है कि ऐसे लोगों को बेनकाब किया जाना चाहिए जो अनिरूद्घ बहल जैसे ईमानदार, तेज तर्रार पत्रकार पर हमले की बात सोंचते हैं। साथ ही उनके विरूद्घ इतनी कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए कि भविष्य में कोई इस तरह की हिम्मत न जुटा पाये। भड़ास4मीडिया के संपादक यशवंत सिंह ने कहा कि अनिरूद्घ बहल इस देश के सबसे खोजी और होनहार पत्रकार हैं। उनकी सुरक्षा की हर हालत में जिम्मेदारी सरकार को उठानी चाहिए और उन लोगों को कड़ी सजा भी देनी चाहिए जो किसी पत्रकार पर हमला करने की साजिश करते हैं। राज्य मान्यता प्राप्त संवाददाता समिति के सचिव और बिजनेस स्टैंडर्ड के ब्यूरोचीफ सिद्घार्थ कालहंस का मानना है कि अनिरूद्घ बहल ने पत्रकारिता के उच्चतम माप दण्ड को स्थापित किया है लिहाजा हम सबकी जिम्मेदारी है कि उनकी तथा उनके परिवार की सुरक्षा की जिम्मेदारी सुनिश्चत करें। आईबीएन-7 के ब्यूरो चीफ शलभमणि त्रिपाठी ने कहा कि अनिरूद्घ बहल निर्भीक और होनहार पत्रकार हैं अगर कोई उनके खिलाफ इस तरह की साजिश की कल्पना करता है तो उसे इतना कड़ा दंड मिलना चाहिए जिससे भविष्य में कोई इस तरह की सपने में भी कल्पना न करे।
यूपी सरकार के लिए भी यह मामला बेहद संवेदनशील है क्योंकि अनिरूद्घ बहल गाजियाबाद के वैशाली क्षेत्र में रहते हैं। पुलिस इस मामले में बेहद संवेदनशील एवं गोपनीय रवैया अपना रही है। इस बारे में पूछे जाने पर मेरठ के डीआईजी के सत्यनाराण ने कहा कि यह मामला नोएडा का है वहां के एसएसपी ही बता सकते हैं। नोएडा के एसएसपी तो लाइन पर नहीं आये अलबत्ता उनके पीआरओ ने कहा कि इस बारे में वह कुछ नहीं बता सकते और साहब व्यस्त हैं। प्रदेश के पुलिस महानिरीक्षक कानून व्यवस्था अमरेंद्र सहगल ने कहा कि यूपी पुलिस सभी लोगों की सुरक्षा के लिए तत्पर है और अगर किसी महानुभाव को वाई कैटेगरी की सुरक्षा मिली है तो यूपी पुलिस उसका विशेष ध्यान रखेगी।
Sabhar- weekandtimes.com

0 comments:

Post a Comment

Top Ad 728x90