Top Ad 728x90

  • Sakshatkar.com - Sakshatkar.org तक अगर Film TV or Media की कोई सूचना, जानकारी पहुंचाना चाहते हैं तो आपका स्वागत है. आप मेल के जरिए कोई जानकारी भेजने के लिए mediapr75@gmail.com का सहारा ले सकते हैं.

Saturday, 14 December 2013

फिल्म देखने के बाद बरबस उस चैनल की वो मैडम याद आती रहीं

Vikas Mishra : 2003 की बात है। मैं दैनिक जागरण मेरठ का सिटी चीफ हुआ करता था। एक बड़े चैनल की एक मैडम जी (निश्चित रूप से असाइनमेंट डेस्क पर रही होंगी) को कहीं से मेरा नंबर मिला। वो हर तीसरे दिन फोन करके मुझसे पश्चिमी उत्तर प्रदेश की खबरें लिया करती थीं। कोई भी बड़ी खबर होती थी मेरठ से मुरादाबाद के बीच तो वो मुझसे पूछ लेती थीं। दस में नौ बार उनका काम बन भी जाता था। कई बार मौके पर मैंने उनके चैनल के लिए बड़े अधिकारियों के फोनो भी चलवाए। एक बार तो मेरा फोनो भी उन्होंने चलवाने की कोशिश की, लेकिन होल्ड ज्यादा करवा दिया, मैंने फोन काट दिया। 
 
बहरहाल वो अपने चैनल में काफी सीनियर थीं और मैं तो दैनिक जागरण में बड़ी पोजीशन पर था। बराबरी के स्तर पर बात हुआ करती थी। हर दूसरे-तीसरे दिन। उनका फोन लैंड लाइन नंबर से आता था, मैंने मोबाइल नंबर मांगा भी नहीं कभी। मुझे ऐसा लगने लगा कि जब भी इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में आना चाहूंगा, तो ये मैडम खट से मेरी नियुक्ति करवा देगी। मैंने इलेक्ट्रॉनिक मीडिया कई दोस्तों से भी कहा कि जब चाहूं, 'उस' चैनल में जा सकता हूं। खैर... एक दिन मेरी जिम्मेदारी बदल गई और मैं प्रादेशिक डेस्क पर चला गया। रवि शर्मा नए इंचार्ज हुए सिटी के। मैडम का फोन आया किसी खबर के लिए..। मैंने बताया कि मेरी जिम्मेदारी बदल गई है, बेहतर रवि बता सकते हैं, रवि का नंबर है--....। मैडम ने पूरी बात सुनी नहीं और फोन काट दिया। उसके बाद उनसे कभी बात नहीं हुई। 
 
ये अलग बात है कि मैं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में आ गया, देश के नंबर वन न्यूज चैनल आजतक में अच्छे खासे हैसियत में काम कर रहा हूं, लेकिन उन मैडम जी की फितरत ने मुझे हैरान कर दिया। अभी रात में मैंने फिल्म पीपली लाइव देखा। देख नहीं पाया था पहले। उसमें भी एक चैनल की मैडम पीपली आती हैं, जहां अखबार का वो रिपोर्टर मिलता है, जिसने ये खबर सबसे पहले लिखी थी (ये भूमिका नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने निभाई है)। वो मैडम की पूरी सहायता करता है, जी जान से। उसे लगता है कि मैडम थोड़ा भाव देने लगी हैं। वो अपना बायो डाटा उन्हें देता है। जिसे वो लौटा देती हैं, उन्हें मतलब है तो बस अपनी स्टोरी से और रिपोर्टर मरा जा रहा है कि मैडम को कोई परेशानी ना हो। आखिरकार वो मर भी जाता है...। फिल्म देखने के बाद बरबस याद आती रहीं उस चैनल की वो मैडम जिनसे सवा साल तक लगातार अच्छी बातें होती रहीं।
 
आजतक न्यूज चैनल में कार्यरत विकास मिश्रा के फेसबुक वाल 

0 comments:

Post a Comment

Top Ad 728x90