छह साल की विस्फोट यात्रा और बौने लोगों के बीच बड़ा होने का दर्द

Sanjay Tiwari : सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी के ब्लाग पर अचानक आज यह फोटो मिल गई। वे भी अक्सर मेरा अतीत कुरेदते हैं। कुछ लोग अक्सर मेरा अतीत जानना चाहते हैं। यह मेरा अतीत है। तीन साल पुराना। आनलाइन दुनिया में कुछ कर लेने के बाद बहुत कुछ कमा लिया होगा। फटी शर्ट। वह भी दो तीन साल पुरानी। यही कमाई थी और यही प्राप्ति। हालात बहुत बदल गये हों ऐसा नहीं है। लेकिन वह शर्ट जरूर बदल गई है।
अब तीन साल बाद अक्सर यह सोचता हूं कि मैने किसके लिए अपने आपको बर्बाद कर लिया? क्या उनके लिए जो बेईमानी और भ्रष्टाचार में आकंठ डूबकर ईमानदारी का सर्टिफिकेट बांट रहे हैं? कमोबेश छह साल की विस्फोट यात्रा में एक से एक लोगों से मुलाकात हुई है। बौने लोगों के बीच बड़ा होने का दर्द बड़ा गहरा होता है।
संजय तिवारी के फेसबुक वॉल से. संजय विस्फोट डाट काम के संस्थापक और संचालक हैं.
छह साल की विस्फोट यात्रा और बौने लोगों के बीच बड़ा होने का दर्द छह साल की विस्फोट यात्रा और बौने लोगों के बीच बड़ा होने का दर्द Reviewed by Sushil Gangwar on November 15, 2013 Rating: 5

No comments