Sakshatkar.com - Filmipr.com - Worldnewspr.com - Sakshatkar.org

बराबर की झूठी दुनिया में मनीषा का मर्म समझिए



बराबर की झूठी दुनिया में मनीषा का मर्म समझिए

धर्म-भेद, जाती-भेद और वर्ग भेद से बड़ा है लिंग भेद जहाँ आप आधी आबादी बीच से दो फाड़ कर देते है. एक बार मैंने एक पोस्ट में कौमार्य शब्द का प्रयोग किया तो यशवंत (भड़ास वाले) ने पहली बार मुझे बुरी तरह कोसा ...उन्होंने कहा दीपक भाई आप भी सामंतवादी मानसिकता से पीड़ित हो...आप भी बेहद छोटी सोच के निकले ..आपने निराश किया .
मित्रों घर में तीन बड़ी बहने है, पत्नी है, दो भांजी है और एक बेटी भी...कभी आभास ही नही हुआ कि औरत की दुनिया अलग है...पर यशवंत की बात समझ आई. गलती भी मानी. गलती ठीक करने की भी सोची.
आजकल फेसबुक पर लिंग-भेद को लेकर जो अलख मनीषा पाण्डेय जगा रही हैं उसको सलाम. मनीषा ने लिखा है कि कालिज के दिनों की गुम सहेलियों को वो जब फेसबुक में उनके नाम से खोजती है तो वो मिलती नही....क्यूंकि अगर नाम नीता वर्मा है तो शादी के बाद वो वर्मा नही रही होगी लिहाजा खोजना मुश्किल हैं. अचानक मुझे लगा कि मेरी बड़ी बहिन भी तो रीता शर्मा से रीता गोसाईं हो गयी और छोटी बहिन शम्मी शर्मा से शम्मी झा हो गयी.मेरी पत्नी सोना अवस्थी से सोना शर्मा हो गयी और मेरी बड़ी भांजी दीक्षा गोसाईं से दीक्षा भाटिया हो गयी. यानी मेरे ही घर कि आधी शिनाख्त बदली हुई है और इसका मुझे अहसास नही. इनकी भी स्कूल की बिछड़ी सहेलियां इन्हें ढूंढ नही पा रही होंगी. इनके भी नाम रस्मो की बली चढ़ गए.
मित्रों ...कुछ लोग मनीषा कि भाषा और अभिव्यक्ति पर इतराज़ करते हैं..कुछ उनकी किस्सागोई पर बिफर पडते है ..तो कुछ उनके खुले ख्यालों से खफा है ...लेकिन दुनिया के दूसरे छोर पर बैठे ये लोग नही जानते कि मनीषा जिस भेद और भ्रम को आज मिटाना चाहती है वो आने वाले कल में इंसानी रिश्तों को बीच से चीरने जा रहे हैं...लिंग भेद के ये संघर्ष कल हमारे छद्म समाज के सबसे बड़े द्वंद होने जा रहे हैं.
मित्रों, नारी को सम्मान ही नही समानता चाहिए पर बकौल यशवंत हम अपनी सोच नही बदल पा रहे हैं.

धर्म-भेद, जाती-भेद और वर्ग भेद से बड़ा है लिंग भेद जहाँ आप आधी आबादी बीच से दो फाड़ कर देते है. एक बार मैंने एक पोस्ट में कौमार्य शब्द का प्रयोग किया तो यशवंत (भड़ास वाले) ने पहली बार मुझे बुरी तरह कोसा ...उन्होंने कहा दीपक भाई आप भी सामंतवादी मानसिकता से पीड़ित हो...आप भी बेहद छोटी सोच के निकले ..आपने निराश किया .
मित्रों घर में तीन बड़ी बहने है, पत्नी है, दो भांजी है और एक बेटी भी...कभी आभास ही नही हुआ कि औरत की दुनिया अलग है...पर यशवंत की बात समझ आई. गलती भी मानी. गलती ठीक करने की भी सोची.
आजकल फेसबुक पर लिंग-भेद को लेकर जो अलख मनीषा पाण्डेय जगा रही हैं उसको सलाम. मनीषा ने लिखा है कि कालिज के दिनों की गुम सहेलियों को वो जब फेसबुक में उनके नाम से खोजती है तो वो मिलती नही....क्यूंकि अगर नाम नीता वर्मा है तो शादी के बाद वो वर्मा नही रही होगी लिहाजा खोजना मुश्किल हैं. अचानक मुझे लगा कि मेरी बड़ी बहिन भी तो रीता शर्मा से रीता गोसाईं हो गयी और छोटी बहिन शम्मी शर्मा से शम्मी झा हो गयी.मेरी पत्नी सोना अवस्थी से सोना शर्मा हो गयी और मेरी बड़ी भांजी दीक्षा गोसाईं से दीक्षा भाटिया हो गयी. यानी मेरे ही घर कि आधी शिनाख्त बदली हुई है और इसका मुझे अहसास नही. इनकी भी स्कूल की बिछड़ी सहेलियां इन्हें ढूंढ नही पा रही होंगी. इनके भी नाम रस्मो की बली चढ़ गए.
मित्रों ...कुछ लोग मनीषा कि भाषा और अभिव्यक्ति पर इतराज़ करते हैं..कुछ उनकी किस्सागोई पर बिफर पडते है ..तो कुछ उनके खुले ख्यालों से खफा है ...लेकिन दुनिया के दूसरे छोर पर बैठे ये लोग नही जानते कि मनीषा जिस भेद और भ्रम को आज मिटाना चाहती है वो आने वाले कल में इंसानी रिश्तों को बीच से चीरने जा रहे हैं...लिंग भेद के ये संघर्ष कल हमारे छद्म समाज के सबसे बड़े द्वंद होने जा रहे हैं.
मित्रों, नारी को सम्मान ही नही समानता चाहिए पर बकौल यशवंत हम अपनी सोच नही बदल पा रहे हैं.
Deepak Sharma ki facebook wall se sabhar lekar .. 

साक्षात्कार डाट काम

साक्षात्कार डाट काम सूचित करता है। अब उन ही खबरों को अपडेट किया जाएगा , जिस इवेंट , प्रेस कांफ्रेंस में खुद शरीक हो रहा हू । इसका संपादन एडिटर इन चीफ सुशील गंगवार के माध्यम से किया जाता है। अगर कोई ये कहकर इवेंट , प्रेस कॉन्फ्रेंस अटेंड करता है कि मै साक्षात्कार डाट कॉम या इससे जुडी कोई और न्यूज़ वेबसाइट के लिए काम करता हू और पैसे का लेनदेन करता है, तो इसकी जिम्मेदारी खुद पी आर की होगी। इसको लेकर उसकी कोई न्यूज़ साक्षात्कार डाट कॉम पर नहीं लगायी जायेगी। ..