दादी का दौर----


दादी का दौर----

सिमटने लगे हैं घर अब दादी के दौर के,

बिखरने लगे हैं लोग जब गाँव छोड़ के |

हो गया बड़ा मेरा गाँव,सरहद के छोर से,

बनने लगे मकां , जब घरों को तोड़ के |

सिमट गई नजदीकियां ,मिटने के कगार तक,

देखे हैं जब से रिश्ते, बस पैसों से जोड़ के |

नहीं आता कोई काम ,मुश्किल में आजकल,

अब जीने लगे हैं लोग,स्वार्थ से नाता जोड़ के |

नैतिकता का देखिये कितना हुआ पतन,

औलाद भी चलने लगी ,अब मुहं मोड़ के |

डॉ अ कीर्तिवर्धन

8265821800
दादी का दौर---- दादी का दौर---- Reviewed by Sushil Gangwar on November 01, 2013 Rating: 5

No comments