हेलो, हाय या गुड मार्निंग


तीन चीजें मुझे बड़ी बुरी लगती हैं। एक तो किसी का कोई सुभाषित या उसके प्रिय देवता या प्रतीक का मेरे साथ टैग किया जाना, दूसरा मेरे मेसेज बाक्स में आकर किसी का हेलो, हाय या गुड मार्निंग अथवा गुड ईवनिंग कहना और तीसरा मेरी पोस्ट पर रोमन में कमेंट करना। आपको रोमन से प्यार है तो अंग्रेजी भाषा में कमेंट करें, भले व्याकरण की दृष्टि से अशुद्ध अंग्रेजी में कमेंट करें मैं समझ लूंगा। लेकिन खुदा के वास्ते मेरी पोस्ट पर रोमन में टिप्पणी नहीं करें मैं समझ नहीं पाता।
(हालांकि कुछ लोगों को इसकी छूट है। मसलन जो विदेश में हैं और उनके लैपटॉप अथवा डेस्कटॉप में देवनागरी को लोड करने की सुविधा नहीं है या वे यह तकनीक नहीं जानते हैं। इसके अलावा जो अपने मोबाइल से कमेंट कर रहे हैं)
साभार =शंभूनाथ शुक्ल जी  फेसबुक वाल से 
हेलो, हाय या गुड मार्निंग हेलो, हाय या गुड मार्निंग Reviewed by Sushil Gangwar on October 26, 2013 Rating: 5

No comments

Post AD

home ads