अरे हरामखोरों... तुम अपनी मदद खुद करो, मेरी क्या करोगे.


कई लोग फोन करते हैं कि.... यशवंत जी, बताइएगा मैं क्या आपकी कैसे, कितनी, किस तरह की.... मदद कर सकता हूं... अरे हरामखोरों... तुम अपनी मदद खुद करो, मेरी क्या करोगे..

मुझे किसी की मदद की जरूरत नहीं...

मदद की जरूरत उन लड़को को हैं जो लड़ रहे हैं, पिछले 48 घंटे से.... घर परिवार नाते रिश्तेदार करियर संभावनाएं ... आदि इत्यादि सबको छोड़ कर .... 

अगर मदद करना चाहते हो तो इनकी मदद करो और इनके सपोर्ट में आज सुबह 12 बजे फिल्म सिटी महुआ आफिस के सामने पहुंचों..

फिर ना कहना मुझसे कि-''भाई साहब.. बताना .. मैं आपके लिए क्या कर सकता हूं कैसे कर सकता हूं.. कितना कर सकता हूं...''

हरामखोरों इतना ही करो कि मुश्किल में पड़े लोगों के समर्थन में खड़े हो जाया करो.. मान लेना कि यशवंत को सपोर्ट कर दिया और सब कुछ दे दिया.

Sabhar- Yashwant Singh ki Facebook wall se sabhar lekar .. 
अरे हरामखोरों... तुम अपनी मदद खुद करो, मेरी क्या करोगे. अरे हरामखोरों... तुम अपनी मदद खुद करो, मेरी क्या करोगे. Reviewed by Sushil Gangwar on October 31, 2013 Rating: 5

No comments