इस उम्मीद के साथ कि इंतज़ार का फल मीठा होगा

एक लम्बे इंतज़ार के बाद ....इस उम्मीद के साथ कि इंतज़ार का फल मीठा होगा ...आप सभी के सम्मुख पेश है बोधि प्रकाशन, जयपुर द्वारा प्रकाशित मेरा कविता संग्रह "तेरे नाम के पीले फूल" जिस का आवरण छायाचित्र बनाया है आदरणीयMaya Mrig जी व डॉ. सुधीर सोनी जी ने.......बस कुछ दिन और...जल्द ही आप के हाथों में होगी .."तेरे नाम के पीले फूल"....

आभार व्यक्त करना चाहती हूँ परम पिता परमेश्वर का, अपने माता-पिता का और अपने परिवार का जिन के सहयोग से यह शुभ दिन मेरे जीवन में आने को है ...

आभार व्यक्त करना चाहती हूँ मायामृग जी का जिन्होंने मेरी कविताओं को प्रकाशित करने का निर्णय लिया ...और आप सभी मित्रो का जिन्होंने हर तरह से मुझे प्रोत्साहित किया, मेरा मार्गदर्शन किया, आप सभी का बहुत बहुत शुक्रिया ...धन्यवाद ...आभार 
L
इस उम्मीद के साथ कि इंतज़ार का फल मीठा होगा इस उम्मीद के साथ कि इंतज़ार का फल मीठा होगा Reviewed by Sushil Gangwar on October 26, 2013 Rating: 5

No comments

Post AD

home ads