अभी एक खुदाई को लेकर बहस छिडी हुई है।



अभी एक खुदाई को लेकर बहस छिडी हुई है। पुरात्तव विभाग द्वारा यह खुदाई कराई जा रही है । किले मे जहां खुदाई हो रही है वहां हजार टन सोना होने का दावा एक साधु ने सपने के आधार पर किया है। हो सकता है सोना न हो परन्तु टीवी चैनलो पर जो बहस हो रही है , खासकर ए बी पी ABP News पर् उसे देखकर कर उसमे भाग लेने वालो की बुद्धि पर तरस आता है। एक कोई सुधांशु मित्तल है गजब का जमुरा है। दुसरी न्यूज चैनल की एंकर है कोइ चमगिदडी उम्र होगी करीब २४-२८ साल , खुद को सर्वग्यानी दर्शाने का कोई मौका नही छोड रही है।अधिकांश लोग जो बहस मे भाग ले रहे है वे सिरे से सपनो को मात्र कल्पना और अवैग्यानिक बता रहे है। न्यूज चैनल वाले जमुरो ने किसी पारा मनोवैग्यानिक या सपनो के बारे मे रिसर्च करने वाले को बहस मे नही बुलाया है। अभीतक हमारे मस्तिश्क का बहुत कम अध्य्यन हुआ है। सपनो पर भि रिसर्च जारी है। सपने क्यो आते है , उनका वास्तविकता से क्या संबंध है, सोने की अवस्था मे भी व्यक्ति का मस्तिष्क क्यो कार्य कर्ते रहता है, मस्तिश्क की तंरंगो का सपनो से क्या रिश्ता है , इस तरह की ढेर सारी बाते है जिनकी खोज जारी है। तरंगो के बारे मे मात्र इतना कहना काफ़ी होगा कि कल तक जब मोबाईल यानी बेतार के संवाद का अविष्कार नही हुआ था किसी को मोबाईल की कल्पना करने वाला पागल ही लगता होगा। वैसे सपना क्या है इसे इन शब्दो मे समझे और फ़िर खुद तलाशे की आखिर सोने के बाद म्स्तिष्क मे इमेज का निर्माण कैसे होता है । mental activity, usually in the form of an imagined series of events, occurring during certain phases of sleep
sabhar -Facebook wall .. Madan Tiwary
अभी एक खुदाई को लेकर बहस छिडी हुई है। अभी एक खुदाई को लेकर बहस छिडी हुई है। Reviewed by Sushil Gangwar on October 18, 2013 Rating: 5

No comments

Post AD

home ads