A+AA- देर तक संसद चलने पर एजेंसियों के गिनती के बचे पत्रकारों को न चाय मिलती है न खाना

Viplav Vinod : लोकसभा में इस समय उत्तराखंड की त्रासदी पर चर्चा चल रही है, लेकिन इतने महत्वपूर्ण विषय पर चर्चा के दौरान तीन-चार सदस्यों को छोड़कर कांग्रेस के सभी सदस्य गायब हैं। सदन में मुश्किल 30 सदस्य मौजूद हैं.. इनमें से भी कई सदस्य धीरे-धीरे करके जा रहे हैं। पत्रकार गैलरी में दो-तीन पत्रकार हैं..
वैसे भी देर तक संसद चलने पर बाकी के पत्रकार चले जाते हैं.. केवल एंजेंसियों के गिनती के पत्रकार रहते हैं..न चाय मिलती है न खाने को कुछ मिलता है.. खाद्य सुरक्षा विधेयक पारित होने का फायदा हमारे लिये क्या है... जिस रात खाद्य सुरक्षा विधेयक पारित हुआ, हम पत्रकारों के लिये यह खाद्य असुरक्षा रात साबित हुयी...
यूएनआई के वरिष्ठ पत्रकार विनोद विप्लव के फेसबुक वॉल से.
A+AA- देर तक संसद चलने पर एजेंसियों के गिनती के बचे पत्रकारों को न चाय मिलती है न खाना A+AA- देर तक संसद चलने पर एजेंसियों के गिनती के बचे पत्रकारों को न चाय मिलती है न खाना Reviewed by Sushil Gangwar on September 04, 2013 Rating: 5

No comments

Post AD

home ads