Top Ad 728x90

  • Sakshatkar.com - Sakshatkar.org तक अगर Film TV or Media की कोई सूचना, जानकारी पहुंचाना चाहते हैं तो आपका स्वागत है. आप मेल के जरिए कोई जानकारी भेजने के लिए mediapr75@gmail.com का सहारा ले सकते हैं.

Sunday, 11 August 2013

डे एंड नाईट : सच तो ये भी है !


जगमोहन फुटेला


'डे एंड नाईट' से महीने भर में विदा होने से पहले चैनल के संपादक कंवर संधू ने यू ट्यूब पे भी संजो के रखे गए अपने विदाई संदेश में कुछ खरी, कुछ भावनात्मक बातें कही हैं. इन्हें उन्होंने 'डे एंड नाईट' का सच बताया है. लेकिन असल में सच को ही स्वीकार नहीं किया है. हालांकि सब को सच स्वीकारवाना भी ज़िम्मेवारी मेरी नहीं है. मगर क्या करूं दर्शक और पत्रकार मैं भी हूं. दर्द मेरे भी सीने में है. उम्मीद मुझे भी थी कि रिपोर्टरों से पैसे ले के चैनल चलाने और फिर वो डकार कर भाग जाने वाले ज़माने में कंवर संधू कुछ तो बेहतर करेंगे.

नज़र मार के देख लीजिए. पंजाब में एक के बाद एक चैनल आए और शहीद हो गए. पंजाब टुडे, चैनल वन, लश्कारा, पंजाबी वर्ल्ड, पीबीसी और डीईटीवी. पंजाब टुडे भारत इंदर सिंह चाहल की कृपा से कांग्रेस के राज में झोलियां भर के निकल लिया. कांग्रेसियों की ऐसी जय जयकार करी उस ने कि अकालियों की सरकार आने के बाद जुगल जैन के ट्रकों तक ने कभी पंजाब की तरफ मुंह न किया. चैनल वन का मालिक तो खुद चाय समोसे वाली प्रेस कांफ्रेंसों में माइक आई डी ले ले के घूमने के बावजूद चैनल न चला सका. लश्कारा का रेडियो से आया एक ऐसा संपादक था जो एक वाक्य बोलने में ही तीन बार होंठ ऐसे कस के भींच लेता था कि कहीं सरकार के खिलाफ कोई शब्द बाहर न निकल पड़ें. पीबीसी पंजाब में अकालियों की सरकार और उस में विधायक और मुख्यमंत्री का रिश्तेदार भी होने के बावजूद अजायब सिंह मुखमैलपुर से न चला. एक बार मेरे भी पास आए थे वो चैनल का लायसेंस लेने के बाद. कह रहे थे कि रिपोर्टरों से पचास और कैमरामैनों से तीस तीस हज़ार रूपये लेंगे सेक्योरिटी खाते में. मैंने पूछा था कलम और कैमरा भी जब उन का ही होगा तो सेक्योरिटी किस चीज़ की? उन का जवाब था, सभी चैनल तो ऐसा ही करते हैं पंजाब में...पीबीसी भी निबट गया और वो डीईटीवी भी जिस के मालिक सुरजीत सिंह रखड़ा के अमेरिका में चार सौ पेट्रोल पंप तब भी चलते थे और जो पंजाब की अकाली सरकार में आज मंत्री जो भी हैं.

केबल नेटवर्क की दुनिया में आए बदलावों, देश भर में बन गए समूहों और खासकर पंजाब के पूरे केबल नेटवर्क पे एक ही कंपनी के जैसे एकाधिकार के बाद पंजाब पे फोकस करते हुए कोई चैनल चला पाना आसान रह भी नहीं गया था. खासकर उसी ग्रुप का अपना एक चैनल भी होने के बाद. ऐसे में ये तय था कि कंवर संधू या तो अपने भीतर के पत्रकार को मार के चैनल चलाएंगे या जिस दिन उन के भीतर का पत्रकार जागा तो वे खुद डूब जाएंगे. लेकिन ऐसा भी नहीं था कि विकल्प नहीं थे. यकीन मानिए मैंने कंवर संधू को बिना शर्त मदद का भरोसा भी दिया था. देश में किसी भी प्राइवेट चैनल के सब से शुरूआती पत्रकारों में से था मैं. मदद कर पाने की हालत में भी था. मगर कंवर ने परवाह नहीं की. मैंने साईकोलोजी पढ़ी है. वे डरे हुए थे. मुझे पता है मीडिया में दो तरह के लोगों की ज़रूरत नहीं होती. एक वे जो बहुत गए बीते हों. दूसरे वो जो आप से ज्यादा समझदार हों.

कंवर संधू ने छांट छांट के ऐसे बंदे भर्ती किए जिन्हें टीवी नहीं आता था. वरना बताओ आप, देखा है कभी कोई ऐसा चैनल आप ने कि जिस में ख़बरों की पैकेजिंग ही न होती हो. कोई एक खबर याद कीजिए किसी भी हिंदी, अंग्रेज़ी या किसी भाषाई चैनल की कि जिस में खबर एंकर से शुरू हो के बिना किसी स्क्रिप्ट, वायस ओवर या किन्हीं दृश्यों के, एंकर के साथ ही ख़त्म हो गई हो. चैनल पता नहीं क्या सोच के एक साथ तीन भाषाओं (हिंदी, पंजाबी, अंग्रेजी) में शुरू किया गया. इस सच्चाई से बिलकुल अनजान कि इस देश में बहुभाषी चैनलों की कोई टीआरपी काउंट ही नहीं होती और विज्ञापन का सारा दारोमदार उसी पर है.

चैनल का कंसेप्ट या सेगमेंट भी कोई होता है, संधू से आज पूछ लो. उन्हें आज भी नहीं पता. होता तो वो चैनल की प्लानिंग और उस के कंटेंट से दिखना चाहिए था. दिखा नहीं मगर कभी. हिंदी हरियाणवियों व हिमाचलियों, पंजाबी पंजाबियों और अंग्रेज़ी अमेरिका, कनाडा जा बसे भारतीयों की भाषा मान कर उन्होंने तीन तरह के बुलेटिन आगे पीछे चलाने शुरू किए. होता ये था कि पंजाबी कोई खबरें देखने आता तो हिंदी का बुलेटिन चल रहा होता था और हरियाणवी कोई आता तो पंजाबी का.

उस पर उच्चारण भी बस बूझो तो जानें जैसा. मिसाल के तौर पे हिंदी प्रोग्रामों में चैनल के पंजाबी होस्ट 'यानी कि' को 'जणकी' और 'या' को 'जां' बोलते रहे. असली ज़ुल्म तो दर्शकों पे तब होता था जब अंग्रेज़ी के बुलेटिन में रिपोर्टर का फ़ोनों हिंदी और हिंदी बुलेटिन में पंजाबी में आने लग जाता था. मैं अपनी बात कहूं. मैं तो चैनल किसी सूचना, खबर या ज्ञानवृद्धि के लिए नहीं, दिल बहलाने या दिमागी थकान मिटाने के लिए देखने लग गया था.

सारी दुनिया की टीवी इंडस्ट्री में सारा ज़ोर प्राइम टाइम पे है. शाम आठ बजे से लेकर रात दस साढ़े दस बजे सोने तक का ही वो टाइम है जब, माना जाता है कि टीवी को टिक कर, ज़रुरत के तौर देखा जाता है. इसी लिए आप देखेंगे कि हर चैनल दिन के महत्वपूर्ण मुद्दों से जुड़े गेस्ट बिठा कर अपने संपादकों के ज़रिए दर्शकों की दिमागी और बौद्धिक ज़रूरतें पूरी करता है. समाज को हिलाने, डुलाने और किसी के भी बारे में उस की राय बनाने, बिगाड़ने का ज़रिया भी वही है. लेकिन डे एंड नाईट पे तो खबरें ही चलती रहती थीं उस टाइम पे. वही दिन भर से चलती आ रही खबरें. किन्हीं को मुद्दा मान के कभी संपादक ने कोई चिंतन, मनन, डिस्कशन किया हो, कभी हुआ नहीं. किसी भी चैनल के संपादक का अपना प्रोग्राम एक तरह से चैनल का चेहरा होता है. यहां संपादक जी का अपना प्रोग्राम सुबह छ: बजे तब होता था जब भारत सो और कनाडा जाग रहा होता था. इस के अलावा बस एक प्रोग्राम वे और करते रहे. लगातार. और वो उस युद्ध विषय पर होता था जो कारगिल के बाद कभी हुआ नहीं. उन का एजेंडा वो रहा जो देश का था ही नहीं.

एक पत्रकार के रूप में मेरा मानना है कि चैनल पंजाब में न चल पाने का नज़ला सरकार या अकाली दल पे उतारना हद दर्जे की भूल, बल्कि बेवकूफ़ी थी. इस से न केवल चैनल की क्रेडिबिलिटी का कचरा हुआ बल्कि पंजाब में अपने मालिक के लंबे चौड़े कारोबार को भी आपने जोखिम में डाला.

विदाई के समय भावुक हो जाने वाले देश में मैं शोक में डूबा कंवर संधू का विदाई संदेश सुनवाऊं आप को उस से पहले एक निवेदन. भावुक होने की ज़रूरत नहीं है. सहानुभूति तो 'डे  एंड नाईट' के मालिक से होनी चाहिए जिस का करोड़ों का धन डूबा और चैनल के ज़रिए अगर कोई शान, शौकत, इज्ज़त और पूंजी बढ़नी थी तो उस के अवसर भी. जहां तक कंवर संधू की बात है तो वे जाते जाते भी मालिक का नुक्सान कर के जा रहे हैं. वे अपनी भूलें और गलतियां स्वीकार करने की बजाय आज भी उन को बुरा भला कह के जा रहे हैं जिन के पंजाब में होने के बावजूद टोटल जैसे रीजनल और ज़ी, आजतक, एबीपी, इंडिया टीवी और एनडीटीवी, टाइम्स नाव जैसे चैनल चले ही हैं. आप का नहीं चल सकता था तो आप को पता होना चाहिए था. पता था और फिर भी नहीं चला तो ये आप की असफलता है...और चला ही जो सकते होते आप तो खुद आप के मुताबिक़ देश और उस में आप का आपरेशनल एरिया तो पंजाब के अलावा और भी था. आप के लिए सारी संभावनाएं सारे देश के साथ शुरू हो के अकेले पंजाब के साथ कैसे समाप्त हो गईं? ये भी कहां की अकलमंदी है कि 2014 जैसे निर्णायक चुनावों के मद्देनज़र जब बाढ़ आई हुई है नए चैनलों और अख़बारों की तो आप दुकान समेट के घर जा रहे हैं?

लीजिए, नीचे दिए लिंक पे क्लिक कीजिए और कंवर संधू का विदाई संदेश सुनिएं ....


(जर्नलिस्टकम्युनिटी पे ये रिपोर्ट छपने और मालिकों से झाड़ पड़ने के बाद डालने वालों ने यू ट्यूब से वो वीडियो हटा लियाजिस मेंकंवर संधू ने कहा था कि उन के चैनल को पंजाब में केबल नेटवर्क पे चलने नहीं दिया गयाइस से टीआरपी नहीं आई और उस सेविज्ञापनतंगी के चलते कभी अमेरिका तक में दिखता चैनल सात डिशों के बाद सिर्फ दो पे रह गयाउन्होंने अपने इस विदाई संदेशमें पंजाब के प्रमुख राजनेताओं की चैनल की लांचिंग के समय की पुरानी क्लिपिंग दिखाई और चैनल बंद होने का ठीकरा सब उन पेफोड़ दियाइस विदाई संदेश में संधू ने ये दावा तो किया कि चैनल पंजाब के बाहर देखा और बहुत पसंद किया जा रहा है. लेकिन ये नहीं बताया कि पंजाब के बाहर इतना लोकप्रिय होने के बावजूद बाहर से भी कहीं से कोई एड क्यों नहीं आई और चैनल इतना ही लोकप्रिय बना दिया है आप ने तो अपनी सारी टीम समेत आप चैनल से क्यों बाहर जा रहे हैं? ...जाते जाते भी ग्रेस संधू ने नहीं दिखाईये मालिकों कोनागवार गुज़राखबर है कि उन्हीं के दखल के बाद ये वीडियों यू ट्यूबट्विटर और फेसबुक से हटाना पड़ा.

इस बीच जर्नलिस्टकम्युनिटी को लगभग गाली गलौज की भाषा और लहजे में ढेर सारे संदेश मिले हैं. वो सब सिर माथे पे. काश इसकी एक फीसद भी मेहनत संधू साहब को टीवी पत्रकारिता के मूलभूत गुण समझाने पे की गई होती. चैनल, चैनल की तरह चला होता तो आज शायद सब को ये दिन न देखना पड़ता. विदाई का वीडियो चैनल की वेबसाईट से भी हटा लिया गया है लेकिन पंजाब में चैनल चल न पाने की दुहाई 'द हिंदू' अख़बार की एक खबर के साथ टेक्स्ट के रूप में अब भी है. कंवर संधू का पुराना वीडियो भी है इस के साथ. देखिए ...)


NOTE: Day & Night News is not available to viewers on the Cable Platform in Punjab, Chandigarh and Panchkula. This is because Day & Night News, which is a venture of Kansan News Private Limited, was taken off by the Cable Cartel in Punjab in early-2011, ostensibly because of its fair & fearless reportage.
On our complaint, the Competition Commission of India (CCI), in its order dated 03.07.2012 not only imposed on the various entities that have formed the Cable Cartel a penalty of Rs 8.04 Crore but also directed them to “cease and desist” from indulging in “anti-competitive practices.” The news report which appeared in newspapers is reproduced here for information of our readers/viewers.
Kanwar Sandhu
Managing Editor, Day & Night News

ये रहा उस का लिंक ...

0 comments:

Post a Comment

Top Ad 728x90