कभी वेट मशीन पर नहीं चढ़ी: विद्या




005489बॉलिवुड में शादीशुदा हिरोइनों को ज्यादा भाव नहीं मिलता, लेकिन विद्या बालन इसका अपवाद हैं। शादी के बाद तीन फिल्में साइन कर चुकीं विद्या की शादी के बाद पहली फिल्म ‘घनचक्कर’ रिलीज हुई। उनका मानना है कि इस मामले में अब चीजें बदल रही हैं और दर्शकों का माइंडसेट भी। विद्या ने की हमसे एक खास मुलाकात-
विद्या सबसे पहले आपको बहुत-बहुत बधाई कि आपने कान फिल्म फेस्टिवल की जूरी में इंडिया का प्रतिनिधित्व किया।
शुक्रिया। मेरे लिए गर्व की बात है कि मैं इंडियन सिनेमा के प्रतिनिधि के तौर पर वहां मौजूद थी। इंडियन सिनेमा के 100 साल पूरे होने के जश्न के दौरान कान फिल्म फेस्टिवल की जूरी मेंबर बनना मेरे लिए बहुत बड़ी बात है। जब वहां से कॉल आया, तो एक बार को मुझे यकीन ही नहीं हो रहा था। मुझे लग ही नहीं रहा था कि मुझे चुना गया है। मैंने फटाफट अपनी सारी डेट्स मैनेज कीं और पहुंच गई फ्रांस।
अभी तक आपने सिर्फ सीरियस फिल्में ही की हैं। क्या कॉमिडी मूवी घनचक्कर को इमेज चेंज करने की कोशिश माना जाए?
नहीं, इसमें इमेज चेंज करने जैसा कुछ नहीं है। मैं तो हमेशा से कॉमिडी मूवी करना चाहती थी। मुझे लगता है कि मैं अगर किसी तरह की फिल्में नहीं कर पाऊंगी, तो वह हैं हॉरर फिल्में। मैं हॉरर फिल्में नहीं देखती हूं, इसलिए मुझे नहीं पता कि मैं हॉरर फिल्में करूंगी कैसे! हालांकि भूलभुलैया काफी लोगों को हॉरर फिल्म लगी, लेकिन असलियत में वह हॉरर नहीं थी। इसलिए मैं हॉरर के अलावा हरेक जॉनर की फिल्में करना चाहती हूं।
आपने कहा कि फिल्म में आपका किरदार नीतू जो पहनती है, उसी को फैशन समझती है। क्या आपको नहीं लगता है कि रियल लाइफ में भी आप ऐसी ही हैं?
मैं यह मानकर चलती हूं कि मुझे फैशन की कोई जानकारी नहीं है। फिर मैं मॉडल भी नहीं हूं। मुझे जो अच्छा लगता है, मैं वही पहनती हूं। मसलन अगर मुझे लाल रंग अच्छा लगता है और आपको भी, तो भी जरूरी नहीं कि इसे हर कोई पसंद करे। अब मैं हरेक की सोच के मुताबिक कपड़े नहीं पहन सकती। इसलिए मैंने कुछ साल पहले ही यह ठान लिया था कि मुझे जो अच्छा लगेगा मैं वही पहनूंगी। जब मैं आइने में देखती हूं और लगता है कि मैं अच्छी लग रही हूं, तो फिर मैं वही पहनती हूं। मैं खुद को दूसरों की नजरों से देखने की बजाय खुद की नजर से देखना ज्यादा पसंद करती हूं।
आजकल हिरोइनों की सक्सेस का पैमाना यह हो गया है कि उन्होंने तीनों खान के साथ काम किया, लेकिन आपने अभी तक खान तिकड़ी में किसी के साथ काम नहीं किया?
मैं किसी के साथ भी काम करने के तैयार हूं। मैं बहुत ही लालची ऐक्टर हूं। मैं सारे अच्छे ऐक्टर और सारे अच्छे डायरेक्टर्स के साथ काम करना चाहती हूं। अगर मुझे खान तिकड़ी के साथ चांस मिलता है, तो मैं खुशी-खुशी काम करूंगी।
आपने फिल्म में पंजाबी हाउसवाइफ नीतू का रोल किया है। दिल्ली की पंजाबी लेडीज काफी इंटरेस्ट लेंगी आपके रोल में?
हां, मुझे भी लगता है कि पंजाबी हाउसवाइफ अपने आपको मेरे कैरक्टर से मैच कर पाएंगी। अभी तक उन्होंने हिरोइन के तौर पर पतली-दुबली लड़की देखी है, लेकिन पहली बार वे अपने से मैच करती हिरोइन देखेंगे।
Sabhar- Weekandtimes.com
कभी वेट मशीन पर नहीं चढ़ी: विद्या कभी वेट मशीन पर नहीं चढ़ी: विद्या Reviewed by Sushil Gangwar on July 28, 2013 Rating: 5

No comments

Post AD

home ads