कही पटेल टीवी के नाम पर रामानुज पटेल ठग आपके शहर में तो ठगी का कारोबार तो नहीं कर रहा है

कही पटेल टीवी के नाम पर रामानुज पटेल ठग आपके शहर में तो ठगी का कारोबार तो नहीं कर रहा है | जरा बच के भाई ,कही यह शातिर ठग आपके शहर में नया फर्जी चैनल तो नहीं खोल रहा हो | आखिर यह कौन है रामानुज पटेल ?


पटेल टीवी के नाम से लोगो को चूना लगा कर ठगी करने वाला ठग रामानुज पटेल पहले नॉएडा में रहता था | आज कल कहा रह रहा है इसकी तलाश बहुत लोग कर रहे है |


लोगो को पत्रकार , एडिटर , स्ट्रिन्गेरशिप , डिरेक्टर बनाने के सपने दिखाकर लूटने वाला लुटेरा पहले नॉएडा में पटेल टीवी के नाम से ठगी करता था| भारतीय विद्या भवन से पत्रकरिता का डिप्लोमा कर चुके रामनुज पटेल इतना शातिर है बड़ा बड़ा इन्सान इसके झासे में आ जाता है | आप तस्वीर में देख रहे रामानुज शातिर चोर- ठग देश के बड़े नेता को पत्रिका दे रहा है |


रामानुज से मेरी मुलाकात डेल्ही के साइबर कैफे में हुई ,इस शख्स ने अपना नाम रामानुज पटेल और अपना पता ठिकाना मध्य प्रदेश बताया | बातो बातो में पता चला की मिया जी पत्रकार है आज कल एक पत्रिका पटेल कारवा चला रहे है |


जाति से कुर्मी बताने वाले रामानुज पटेल समय और मौका देख कर अपना नाम और जाति बदल लेता है | नॉएडा के लोग रामानुज गुजर बताता था |


सूत्रों के अनुसार रामानुज एक बार इलेक्शन भी लड़ चूका है | जब मेरी मुलाकात रामानुज हुई थी तो मै हिंदुस्तान तिमेस नॉएडा में कार्यरत था | मुझे थोडा सा बंदा अजीव लगा |

जब इसने कहा गुजरात से टीवी चेंनेल शुरू किया है और पटेल टीवी नाम से डेल्ही में अपना टीवी चेंनेल शुरू करने वाले है |

खैर मै रामानुज को भूल चूका था, एक दिन मेरे फ़ोन की घंटी बज उठी | उधर से आवाज आयी गंगवार जी नमस्कार, मै बोला भाई कौन ? मै रामानुज पटेल बोल रहा हु | नॉएडा में अपना पटेल टीवी का ऑफिस खोल लिया है आप अपने दर्शन तो दे जाये, मै बोला भाई कभी सन्डे टाइम निकाल कर आता हु |

मै टाइम निकाल कर नॉएडा पते पर जा पंहुचा | जहा पर ऑफिस था, वह काफी बड़ी बिल्डिंग थी | मैंने इधर उधर देखा तो सिक्यूरिटी गार्ड से पूछा तो बोला, पटेल जी पहली मंजिल पर है | मेरा नाम रजिस्टर में दर्ज करवाया गया |

एक केबिन में चार कुर्सी पड़ी थी सामने रामानुज पटेल विराजमान थे | एक दो अन्य लोगो से मेरा परिचय करवाया गया | मुझे थोडा सा शक हुआ यह फटीचर आदमी टीवी चेंनेल कैसे खोल सकता है | मैंने भी मजाक में कह दिया भाई मुझे भी नौकरी दे दो ?

रामानुज का चेहरा खिल उठा ,वह बोले आप हिंदुस्तान तिमेस में है मै बोला यार वो नौकरी छूट गयी है | मैंने १० दिन की छुट्टी अपने ऑफिस ली और पटेल टीवी ज्वाइन कर लिया | सोचा चलो देखो आखिर लफड़ा है क्या ?

अब तक ऑफिस में सात फ़ोन लग चुके थे कुछ कुर्सी मेज की संख्या बढ चुकी थी | हर रोज ऑफिस में लोग आते तो कभी रामानुज पटेल नीचे से ऊपर तक पूरी बिल्डिंग घुमाते और चाय पानी पिलाकर विदा कर देते थे |

रामानुज हमें चूतिया समझ रहे था | रामानुज ने कहा गंगवार जी आज लगड़ा डिरेक्टर आने वाला है | जब मेरी मुलाकात ४२० डिरेक्टर हुयी तो पहली नजर में भाप गया , दाल में काला है | लम्बी लम्बी छोड़ने वाला लगड़ा मुझे देख कर खुश हुआ |

दो दिन बाद एक तिवारी जी आ गए और पता चला तिवारी जी भी पटेल टीवी के डिरेक्टर है | मै समझ चुका था | यह सब चोर है जो मीडिया के नाम लोगो को चूतिया बना रहे है और मोटा माल कमाकर भागने वाले है |

एक दिन डेल्ही की ठण्ड में जल्दी ऑफिस पंहुचा तो रामानुज , लगड़ा , तिवारी देख कर सकपका गए, बोले अरे गंगवार जी इतनी जल्दी आ गए | तीनो ऑफिस की बिल्डिंग में गन्दी सी रजाई में लिपटे हुए थे | मै रामानुज पटेल को बोला ,भाई तुम चैनल खोलने की बात करते हो परन्तु कुछ बात हजम नहीं होती है |

आपकी कंपनी का एम् डी ठण्ड से काप रहा है इसके पास पैसे नहीं है कही होटल में जाके ठहर जाये | फिर एक दिन फ़ोन आया और फ़ोन मैंने उठाया ,मैंने जैसे ही हेल्लो कहा तो उधर से माँ की ,बहन की, बीबी की ,बेटी की गलिया सुनाई दे रही थी , मै बोला भाई आखिर क्यों गालिया दे रहे हो ,किसको दे रहे हो | वह बोला अरे साला वो रामानुज और लगड़ा कहा है |

साले हरामी मेरी बुलेरो गाडी किराये पर ले गये | अभी तक नहीं दी है | मै बोला अरे चाचा तुम्हारी बुलेरो तो नीचे ऑफिस में पार्क है | यह लगड़ा साला चोर है अभी जेल से छूटा है पेपर लीक करवाने के चक्कर में जेल गया था | वह रामानुज तो सबसे बड़ा चोर है

पहले भी मध्य प्रदेश से घपला करके भागा है| मै बोला तुमे जब जानकारी थी तो बुलेरो दी क्यों , वह बोला मुझे तो बाद में पता चला यह सब चोर है | एक महीना से गाडी गायब है | अरे इनको नयी गाडी दी थी , गाडी लेते वक़्त बोले थे केवल गुजरात में चलायेगे मगर साले गाडी चलाते चलाते डेल्ही नॉएडा ले गए | मै तो लुट गया | मै बोला भाई रिपोर्ट लिखा दे गाडी चोरी हो गयी है |

भाई थोड़ी देर बाद रामानुज और लगड़ा डिरेक्टर आया तो पूरी कहानी सुना मारी | लगड़ा जोर जोर से हसने लगा और रामानुज मेरी सूरत देख रहा था | अगले दिन रामानुज और लगड़ा अपना सामान लेकर भागने लगे , मै बोला क्या टीवी चैनल शुरू हो गया | रामानुज बोले गंगवार जी अपना ऑफिस बदलना पड़ेगा | कही यह शातिर ठग आपके शहर में तो नहीं जरा होशियार ?

www.sakshatkar.com
कही पटेल टीवी के नाम पर रामानुज पटेल ठग आपके शहर में तो ठगी का कारोबार तो नहीं कर रहा है कही पटेल टीवी के नाम पर रामानुज पटेल ठग आपके शहर में तो ठगी का कारोबार तो नहीं कर रहा है Reviewed by Sushil Gangwar on February 25, 2013 Rating: 5

No comments