Sakshatkar.com

Sakshatkar.com - Filmipr.com - Worldnewspr.com - Sakshatkar.org for online News Platform .

दीन-दुखियों की सेवा सबसे पुनीत कार्य-

दीन-दुखियों की सेवा सबसे पुनीत कार्य-
मनोजअदनाना वेलफेयर सोसाइटी के तत्वाधान में दिनांक- 09 सितंबर 2012 दिन-रविवार को कस्बा स्थित अमर वीर इण्टर कालेज के प्रांगण में निःषुल्क चिकित्सा षिविर का आयोजन किया गया। जिसमें नेत्र रोग, हड्डी रोग, स्त्री एवं प्रसूत रोग, जनरल फिजिषियन, दंत एवं मुख रोग तथा बाल रोग के विषेषज्ञ चिकित्सकों द्वारा लगभग एक हजार मरीजों की जांच कर निःषुल्क दवा वितरित की गयी।
षिविर का उद्घाटन करते हुए सैयदराजा विधायक मनोज कुमार सिंह ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में आज भी बेहतर स्वास्थ सुविधाओं की कमी है, जिस वजह से गरीब, मजदूर व कमजोर तबके के लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। ऐसे में सोसाइटी द्वारा निःषुल्क चिकित्सा षिविर का आयोजन कराना सराहनीय पहल है। उन्होने कहा कि दीन-दुखियों की सेवा सबसे पुनीत कार्य है। इससे नवयुवकों को प्रेरणा लेनी चाहिए। उन्होने सोसाइटी द्वारा किए जा रहे विभिन्न मानवतावादी कार्यों की सराहना करते हुए खुद सदैव सहयोग का आष्वासन दिया।
सोसाइटी के प्रबन्धक एम0 अफसर खां सागर ने कहा कि षिविर का प्रमुख मकसद ग्रामीण इलाके के उन गरीब व असहाय लोगों को बेहतर स्वास्थ सुविधायें उपलब्ध कराना है जो इससे वंचित रह जाते हैं। जनसेवा के बल पर समाज में व्याप्त असंतुलन को समाप्त किया जा सकता है। सोसाइटी का प्रयास है कि ग्रामीण समुदाय में षिक्षा, स्वास्थ, वन संरक्षण, महिला कल्याण हेतु जन जागरण अभियान चलाकर लोगों को जगरूक किया जाए।
कार्यक्रम संयोजक डा0 विषाल सिंह ने षिविर में आये लोगों को स्वास्थ सम्बंधित जानकारी प्रदान की व आये हुए लोगों का आभार व्यक्त किया।
षिविर में डा0 रत्ना राय, डा0 धीरेन्द्र सिंह, डा0 अखिलेष सिंह, डा0 षैलेन्द्र सिंह, डा0 कुवंर सतीष, डा0 पंचम, डा0 ज्योति बसु, डा0 प्रमोद, डा0 पवन, डा0 कुमुदरंजन, डा0 विषाल सिंह, डा0 डी0 के0 षुक्ला, एवं डा0 आकाष चन्द पाण्डेय ने मरीजों का इलाज किया।
इस दौरान कालेज के प्राचार्य छेदी सिंह, रविन्द्र सिंह, संतोष सिंह, बृजेष सिंह, षाह आलम खां, गृहषंकर सिंह, इम्तियाज, विवेक यादव, बदरे आलम खां, अंगद यादव, सर्फुद्दीन, इरफान, हामिद, नदीम, सज्जाद, कुर्बान, मुरारी, नन्दू यादव, तबरेज खां साहब सहित सैकडों गणमान्य लोग लोग मौजूद थे।