ब्लैकमेलिंग करते पत्रकार काबू, सरगना बच निकला

ये अमर उजाला अखबार में छपी खबर है. ये कहानी बयान करती है कि कैसे पत्रकारिता कुछ लोगों के लिए ब्लैकमेलिंग का धंधा है. जो पकड़े और अदालत तक ले जाए गए उन के नाम इस खबर में हैं. लेकिन इन के साथ शामिल चंडीगढ़ के सेक्टर 27 का श्रीकांत अभी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है. पंजाब केसरी (दिल्ली) के मुताबिक़ इस घटना की दर्ज एफ.आई.आर. में उसका भी नाम है. बताते हैं कि पुलिस पे उसको न पकड़ने के लिए प्रेस क्लब का दबाव है. - संपादक

चंडीगढ़। होटल मालिक से ब्लैकमेलिंग कर, उगाही करने में मामले में पुलिस ने ट्राइसिटी के तीन कथित पत्रकारों सहित एक बीमा कर्मी को गिरफ्तार कर लिया है। इस मामले में एक महिला कर्मी भी है, जिसकी पुलिस तलाश कर रही है।

बुधवार रात डड्डूमाजरा के होटल सिमरन के कमरा नंबर 204 में तीन युवक अचानक घुस गए, जहां दो युवतियां ठहरी हुई थीं। दो युवक होटल के दूसरे कमरे की तरफ चले गए। थोड़ी देर बाद पांचों ने खुद को पत्रकार होने का धौंस जमाते हुए मैनेजर से जबरन वसूली करने की कोशिश की।

सूत्रों के मुताबिक इन्होंने पहले भी होटल मैनेजर से पांच हजार रुपये वसूले थे। आरोपियों ने युवतियों की विडियो रिकॉर्डिंग होने का झांसा देते हुए होटल मैनेजर के साथ ब्लैकमेलिंग करते हुए 15 हजार रुपये की मांग की। होटल मैनेजर शिव सिंह ने एक फोटोग्राफर जितेन्द्र कुमार, पत्रकार राज कुमार, दीपक और राकेश(एलआईसी एजेंट, जो खुद को एक अखबार का प्रतिनिधि बता रहा था) सहित प्रिया के खिलाफ सेक्टर-39 थाने में मामला दर्ज कर, चारों युवकों को गिरफ्तार कर लिया। इस मामले में बठिंडा निवासी प्रिया की पुलिस तलाश कर रही है। मलोया चौकी इंचार्ज के मुताबिक युवती की तलाश की जा रही है।

sabhar- journalistcommunity.com

ब्लैकमेलिंग करते पत्रकार काबू, सरगना बच निकला ब्लैकमेलिंग करते पत्रकार काबू, सरगना बच निकला Reviewed by Sushil Gangwar on August 14, 2012 Rating: 5

No comments