भड़ास ४ मीडिया डाट कॉम के बढते कदमो पर ब्रेक लगाने की कोशिश


भड़ास ४ मीडिया डाट कॉम के बढते कदमो पर ब्रेक लगाने की कोशिश------------
भड़ास की बात करते है ही यशवंत सिंह का चेहरा सामने उभरने लगता है चार सालो की मेहनत रंग दिखाने लगी थी , इसी साल भड़ास ४ मीडिया डाट .कॉम चौथा साल गिरह मनाया था | मुझे भी दिल से ख़ुशी हो रही थी चलो मेरे मीडिया भाई मीडिया में अलग कर रहा है | मुझे यशवंत सिंह की ग्रिप्तारी की सूचना मुकेश भारतीय ने दी ,जो अभी दो हफ्ते पहले ही जेल यात्रा से लौटे है |

उनके ऊपर भी यशवंत की तरह रंगदारी वसूलने के आरोप लगे थे | पत्रकारों का जेल जाना और आना आम बात हो गयी है उनके ऊपर अंकुश लगाने की नापाक कोशिश है |
यशवंत चाहे जितना बुरा इन्सान हो दारु पीता हो , पैसा मागता हो मगर वह इतना बुरा भी नहीं उसे खसीट कर जेल कोठरी में डाल दिया जाये | भड़ास ४ मीडिया की सफलता यशवंत के सर चढ़ कर बोलने लगी थी . अगर कही कहे तो वह बहकने लगा है | दारु के नशे ने जेल की पीछे धकेल दिया |

भले से मेरी यशवंत से मेरी नहीं पटती है मैंने एक दो बार मिलने के लिए फ़ोन किया तो मुझे उत्तर मिल गया , क्या मुद्दा है , क्यों मिलना चाहते हो | मुझे थोडा सा अफ़सोस हुआ यार मै इस आदमी के लिए कुछ करना चाहता हु मगर यशवंत तो बड़ा आदमी हो गया है उन फिल्म स्टारों से बड़ा है जो बहुत मशरूफ रहते है फिर मेरे लिए टाइम निकाल लेते है | कही न कही सफलता का नशा चेहरे और बातो में नजर आने लगा था |

पिछली बार मदन जी ( बिहार मीडिया डाट .कॉम के संपादक ) से फेसबुक पर बात हुई थी तो बोले भड़ास मर गया ? मै सोचा मदन जी की क्या कह रहे है भड़ास मर गया | खबरों का तरीका और यशवंत भी बदल चुका है | शायद मदन जी का तजरुबा बोला रहा था |

मुझे सुनकर झटका लगा यशवंत ने फ़ोन पर एक लाख रूपये की रंगदारी मागी है और जान से मार देने की धमकी दे रहा है | क्या गाजीपुर का छोकरा डान बन गया है | जो फ़ोन करके लोगो को धमकता है और पैसे मागता है | खैर ऐसी ही नापाक कोशिश यशवंत सिंह मेरे साथ पहले कर चुके है | जिसको मै भुला चुका हु | मेरे लिए नयी बात नहीं है मगर यह घटना कापड़ी और उनकी पत्नी के लिए नयी है दोनों ही मीडिया में अपना स्तर रखते है | क्या यशवंत को पैसे की इंतनी जरुरत है जो पैसे के लिए इतना नीचे गिर सकता है |

अभी एक हफ्ते ही पहले भीख - चंदा - मदद के लेख भड़ास ४ मीडिया डाट पर पढ़े था | वह साईट और अपने को पालने के लिए पैसे की डिमांड कर रहे थे | उसके कुछ दिन बाद यशवंत के साथ जेल हादसा हो जाता है | क्या यह वेब मीडिया का नया चेहरा है जो यशवंत सिंह नाम से उभर रहा है |

दारु पीकर फ़ोन करना और पैसे मागना यशवंत की पुरानी आदत रही है फिर पैसा लेकर उसको गरिया भी देता है | मेरे डैड अक्सर कहते थे आप डंडा के बल पर किसी से काम नहीं ले सकते है इसके लिए आपको प्यार की भाषा सीखनी होगी | मीडिया का बाप लिखने से मीडिया का बाप नहीं बन जाता है | मेरी मुंबई में एक पत्रकार से बात हो रही थी बोले यार यशवंत तो मीडिया का बाप बन गया है | यार बाप तो एक ही होता है फिर नए बाप को आप बाप कहेगे | मैंने कहा यार कैसे बाप बना लू , मेरा एक ही बाप था जो मर गया | भड़ास ४ मीडिया डाट काम को बनाने वाला यशवंत है अगर यशवंत नहीं तो भड़ास नहीं ?

एडिटर
सुशील गंगवार
फ़ोन -09167618866
साक्षात्कार डाट.कॉम
साक्षात्कार टीवी .कॉम



भड़ास ४ मीडिया डाट कॉम के बढते कदमो पर ब्रेक लगाने की कोशिश भड़ास ४ मीडिया डाट कॉम   के  बढते कदमो पर ब्रेक लगाने की कोशिश Reviewed by Sushil Gangwar on July 01, 2012 Rating: 5

No comments