Sakshatkar.com

Sakshatkar.com - Filmipr.com - Worldnewspr.com - Sakshatkar.org for online News Platform .

अंग्रेजी में भी दीपक चौरसिया हैं राउडी राठौड़

deepak chaurasiaस्टार न्यूज़ अब एबीपी न्यूज़ पर एक दफे चर्चित टेलीविजन पत्रकार दीपक चौरसिया से राजीव शुक्ला की नोक - झोंक हुई थी. मामला भारतीय क्रिकेट टीम को नकली वर्ल्ड कप ट्रॉफी दिए जाने से संबंधित था. स्टार न्यूज़ का कहना था कि आईसीसी(ICC) और बीसीसीआई (BCCI) ने देश के साथ धोखा किया है. भारत को डमी ट्रॉफी दी गयी. आईसीसी और बीसीसीआई ने 22 लाख बचाने के लिए देश के साथ धोखा किया था. इसलिए आईसीसी - बीसीसीआई दोनों को माफ़ी मांगनी चाहिए.

इसी मसले पर बातचीत के लिए बीसीसीआई के उपाध्यक्ष 'राजीव शुक्ला' भी मौजूद थे . दीपक ने सवाल पूछा. राजीव शुक्ला ने जवाब दिया. दीपक संतुष्ट नहीं हुए. फिर बहस और नोक - झोंक का सिलसिला शुरू हुआ. उसी में झल्लाकर राजीव शुक्ला बोल उठे - आपको अंग्रेजी नहीं आती, उसका अनुवाद नहीं आता तो इससे ट्रॉफी नकली नहीं हो जाती. पहले चीजों को समझिये. ज्ञान लीजिये.

दरअसल राजीव शुक्ला ने मुद्दे के भटकाने के इरादे से ये बात कही. लेकिन शायद वे नहीं जानते थे कि हिंदी का पत्रकार होने के बावजूद दीपक चौरसिया अंग्रेजी में भी अच्छी तरह बतिया लेते हैं. आज इसका नमूना भी एबीपी न्यूज़ पर देखने को मिला, जब डीएमके नेता टीआर बालू से अच्छी अंग्रेजी में उन्होंने सवाल - जवाब कर यह साबित कर दिया कि अंग्रेजी में भी वे राउडी राठौड़ हैं.

पत्रकार नदीम अख्तर अपने फेसबुक वॉल पर लिखते हैं - "

तेजतर्रार पत्रकार दीपक चौरसिया को आपने टीवी स्क्रीन पर धारदार रिपोर्टिंग-एंकरिंग करते कई बार देखा-सुना होगा लेकिन आज मैने एवीपी न्यूज पर दीपक चौरसिया का एक नया रूप देखा. हिन्दी चैनल में काम करने वाले दीपक अंग्रेजी में डीएमके नेता टीआर बालू को grill कर रहे थे..देखने लायक था...बालू साहब सवालों से दूर भाग रहे थे और दीपक, सवालों को re frame करके फायर पर फायर किए जा रहे थे..दीपक को अंग्रेजी में बतियाते देखना अपने आप में एक सुखद अनुभव था और जिस confidence and energy के साथ उन्होने on air live ये सब कुछ किया, मैं तो अभिभूत हो गया. दीपक जी भी हमारे IIMC के senior हैं और ऊपर मैने इतना सबकुछ क्यों लिखा, इसके लिए ये बताना ही काफी है कि दीपक IIMC में हिंदी पत्रकारिता विभाग के छात्र थे, अंग्रेजी पत्रकारिता विभाग के नहीं. हिंदी पत्रकारिता में कम ही लोग हैं, जो द्विभाषी हैं और जिनकी अंग्रेजी भाषा पर भी अच्छी पकड़ हैं. और उनमें से भी ऐसे कितने हैं जो on air नेताओं को English में grill करने की हिम्मत दिखाए. अगली बार जब आप भी दीपक को on air अंग्रेजी में नेताओं से बतियाते देखिएगा, तो अपने दिल में इस शख्स के लिए सम्मान जरूर रखिएगा."

Sabhar- Mediakhabar.com