यह नेता नहीं सपोले है ,

यह नेता नहीं सपोले है , जिस्म पर पड़ते फोले है
हर जनता की पेट में , भड़कते आग के शोले है

यह नेता नहीं सपोले है--------------------------


यह नेता नहीं सपोले है , यह नेता  नहीं सपोले है , Reviewed by Sushil Gangwar on June 28, 2012 Rating: 5

No comments