बिजनेस के लिए कृपा देने की अलग से फीस लेता है ईसाई धर्म गुरु पॉल दिनाकरण


निर्मल बाबा की नौटंकी की पोल खुलने के बाद अब मीडिया के निशाने पर ईसाई धर्मगुरु पाल दिनाकरण का कृपा कारोबार है. यह पाखंडी कई तरह से जनता को लूटता है. एक तरीका बिजनेस ब्लेसिंग भी है. अगर आप कोई बिजनेस शुरू करना चाहते हैं या अपने बिजनेस पर कृपा चाहते हैं तो अलग से पैसे दीजिए, आपको कृपा मिल जाएगी. ये जो पाल है, वह 2008 में अपने पिता की बनाई गई कारुण्या यूनिवर्सिटी और जीसस कॉल्स नामक संस्‍था का सर्वेसर्वा बन गया. पॉल दिनाकरन अपने प्रवचनों से ईसा मसीह की कृपा बरसाने का दावा करता है और इस काम में उनके परिवार के बाकी सदस्य भी शामिल हैं.
पॉल दिनाकरन का सालाना टर्नओवर 5 हजार करोड़ से ज्यादा का है. पॉल बाबा भारत सरकार की नेशनल मॉनिटरिंग कमेटी फॉर माइनॉरिटी एज्यूकेशन का सदस्य भी है. पॉल का एक 24 घंटे का चैनल रेनबो भी है जिसके जरिेए उसकी सभाओं का प्रसारण करीब 9 देशों के टीवी चैनलों पर होता है. पॉल जीसस काल्स मिनिस्ट्री के नाम पर मैरिज ब्यूरो, जॉब ब्यूरो और अन्य कार्य भी करता है. पॉल की वेबसाइट पर ऑनलाइन डोनेशन की मांग की जाती है. पॉल बाबा की वेबसाइट पर एक बिजनेस ब्लेसिंग प्लान भी है, जिसमें बिजनेस के लिए अलग से प्रार्थना करने के एवज में फीस रखी गई है.

निर्मल बाबा से 17 गुना ज्यादा धन-दौलत के मालिक ईसाई धर्म प्रचारक पॉल दिनाकरन पर उमा भारती ने भी निशाना साधा था. उमा ने कहा था कि जब निर्मल बाबा के कृपा बांटने पर लोगों को शंका है तो फिर अपने भक्तों के उद्धार का दावा करने वाले ईसाई धर्म गुरु पॉल दिनाकरन पर क्यों नहीं सवाल खड़े हो रहे हैं. पॉल दिनाकरन उर्फ पॉल बाबा चेन्नई के ईसाई धर्म प्रचारक डॉक्टर डीजीएस दिनाकरन के बेटे हैं. डॉक्टर डीजीएस ‌दिनाकरन ने दावा किया था कि मैंने ईसा मसीह को साक्षात अपनी आंखों से देखा है. इनका कहना था कि जब ये जीवन से तंग आकर सुसाइड करने जा रहे थे, तब क्राइस्ट ने खुद इनके सामने आ कर इनको सुसाइड करने से रोका था.

4 सितंबर 1962 को जन्मे डॉक्टर पॉल दिनाकरन ने भी धर्म प्रचार की शुरुआत कुछ इसी अंदाज में की. पॉल ने कहा कि जब वे युवा थे तो अपने भविष्य को लेकर परेशान थे. पॉल के मुताबिक उस दौरान उनके पिता ने उनकी बात ईसा मसीह से कराई और उन्हें ज्ञान दिलाया. अपने पिता के निधन के बाद पॉल ने भी ईसाई धर्म के प्रचार के नाम पर सभाएं करनी शुरू कर दी. पॉल बाबा अपनी प्रार्थनाओं की शक्ति से अनुयायियों को शारीरिक और अन्य समस्याओं से निजात दिलाने का दावा करते हैं. पॉल भक्तों को प्रीपेड कार्ड की तरह प्रेयर पैकेज बेचते हैं। यानी, वे जिसके लिए ईश्वर से प्रार्थना करते हैं, उससे इसके लिए मोटी रकम भी वसूलते हैं. पॉल की सभाओं में 3000 रुपए में बच्चों और परिवार के लिए प्रार्थना करने की व्यवस्‍था है. दुनिया भर में उनके 30 प्रेयर टॉवर हैं. पॉल की सभाओं में करीब एक लाख तक भक्त शामिल होते हैं
Sabahr- Bhadas4media.com.
बिजनेस के लिए कृपा देने की अलग से फीस लेता है ईसाई धर्म गुरु पॉल दिनाकरण बिजनेस के लिए कृपा देने की अलग से फीस लेता है ईसाई धर्म गुरु पॉल दिनाकरण Reviewed by Sushil Gangwar on May 05, 2012 Rating: 5

No comments