Top Ad 728x90

  • Sakshatkar.com - Sakshatkar.org तक अगर Film TV or Media की कोई सूचना, जानकारी पहुंचाना चाहते हैं तो आपका स्वागत है. आप मेल के जरिए कोई जानकारी भेजने के लिए mediapr75@gmail.com का सहारा ले सकते हैं.

Friday, 18 May 2012

जिग्ना के बहाने पत्रकारिता की पड़ताल





-निरंजन परिहार-
मीडिया अपनी दिशाओं से भटक गया है। समाज के हक में खड़े होने के बजाय वह अपराधियों के महिमा मंडन में लगा है। इसके लिए जिम्मेदार अपराध कवर करनेवाले हमारे मक्कार मित्रों के चालाक तर्कों या कुतर्कों का तो खैर कोई जवाब नहीं। लेकिन आपसे एक विनम्र सवाल है... दिल पर हाथ रखकर बिल्कुल ईमानदारी से जवाब दीजिएगा। सवाल यह है कि राजनीति कवर करते करते बहुत सारे पत्रकार नेता बन गए। फिल्में कवर करते करते कई पत्रकार फिल्मों में एक्टिंग करने के अलावा निर्माण और निर्देशन में लग गए। खेल कवर करते करते कई पत्रकार खेल बोर्ड के चेयरमेन, टीम मैनेजर और टूर्नामेंट के आयोजक बन गए। बिजनस कवर करते करते कई पत्रकार स्टॉक ब्रोकर और बिजनसमैन बन गए। तो अपराध की दुनिया की खबरों को जीनेवाले किसी पत्रकार का मुकाम क्या होगा ? अगर वह अपराधियों की गोलियों का शिकार बन जाए, या जेल चला जाए, तो किस मामले की हाय तौबा और किस बात की तकलीफ ?
जिग्ना वोरा अपने जीवन में जो चाहती थी, अपना मानना है कि वह मुकाम उसे मिल गया। वह खबरों में रहना चाहती थी, खबरों को जीना चाहती थी और अपराध की खबरों के जरिए प्रचार पाकर अपराध की खबरों में छा जाना चाहती थी। वह छा गई। खबर लिखकर जीते जी अमर हो जाने की कोशिश में उसने जो किया, उसी की वजह से वह अब खबरों में है। लेकिन उसने जो कुछ किया, या शुभचिंतकों की बात मानकर यह कहें कि उससे जो भी हो गया, उसका अंजाम जेल के अलावा कुछ और हो ही नहीं सकता था, यह तो वह जानती ही थी। और नहीं जानती थी, तो वह बेवकूफ थी। वैसे भी, अपराध की दुनिया की तासीर यही है कि उसे करनेवाला, करवानेवाला और किए हुए को जीनेवाला भले ही वह समझदार हो या भोंदू, अंतत: खुद भी उसी के तानेबाने का अटूट हिस्सा बन जाता है। अपराध कवर करते करते लोग अपराध के अंजाम में पूरी तरह समा भले ही नहीं जाते तो, उसका हिस्सा तो बन ही जाते हैं। कई सारे खबरी भी बन जाते हैं। ठीक वैसे ही, जैसे राजनीतिक पत्रकारिता करते करते हमारे बहुत सारे साथी राजनीति में आ गए। संजय निरुपम, राजीव शुक्ला और अरुण शौरी की तरह सितारा बन गए। तो उनके जैसे कई लोग पार्टियों के प्रवक्ता और पदाधिकारी बन गए।
मुंबई में अपराध कवर करनेवाले हमारे भाई लोग जे डे के मारे जाने पर छाती पीट पीट कर बहुत हाय तौबा मचा रहे थे। मोर्चे निकाल रहे थे। धरने दे रहे थे। प्रदर्शन कर रहे थे। मगर जिग्ना के जेल जाने पर सब मौन हैं। इतने मौन कि अनजाने नंबरों से कॉल आने पर भी उनको सांप सूंघने लगा है। किसी बड़े पुलिस अफसर का फोन आने पर उससे बात करने से पहले पैर और फिर होठ थरथराने लगे हैं। और अपने कॉल टैप होने का अंदेशा, हर उस पत्रकार को हो रहा है, जिसकी तासीर में अपराध कवर करना रहा है। अपराध कवर करनेवाले हमारे साथी हमेशा से खुद को तुर्रमखां के रूप में पेश करते रहे हो, मगर सच्चाई यही है कि इन दिनों सारे के सारे अंदर ही अंदर सिहर जाने की हद तक सहमे हुए हैं। कुछ हो जाने का बाद आमतौर पर जो हालात होते हैं, उसे माहौल कहा जाता है। और हर माहौल के अपने अलग मायने हुआ करते हैं। अच्छे काम का अच्छा माहौल, बुरे काम का बुरा माहौल। पत्रकार राजीव शुक्ला के मंत्री बनने पर और संजय निरुपम के तीन बार सांसद बनने पर अपने जैसे उनके साथियों के बीच खुशी का माहौल था। लेकिन पत्रकार जिग्ना के जेल जाने और जे डे के मारे जाने पर लोगों को बुरे माहौल को जीना पड़ रहा है। इसी माहौल से अपराध कवर करने के पेशे की इस बदली हुई तासीर को समझा जा सकता है।
b जिग्ना वोरा को अपन नहीं जानते। मुंबई में सालों से पत्रकारिता करने के बावजूद बिल्कुल नहीं जानते। ना कभी कोई व्यक्तिगत मुलाकात और ना ही कभी कोई बातचीत। वैसे, आप यह जानकर अपन को बेहद अल्प संपर्कों और संबंधोंवाला पत्रकार मान सकते हैं। लेकिन जिग्ना को जानने भर से ही कोई बड़ा पत्रकार नहीं हो जाता, यह भी आप भी जानते है। दिल्ली से बहुत दूर मुंबई में रहने के बावजूद भारत सरकार के बहुत सारे मंत्री, देश के कई राज्यों के मुख्यमंत्री, और ढेर सारे सांसद लोग अपन और अपने कई अन्य साथियों को नितांत निजी रूप से जानते है। कईयों का घर पर भी आना जाना है। बहुत सारे राजनेताओं से अपने पारिवारिक संबंध हैं। लेकिन इस सब पर अपने को कोई गर्व या दर्प कभी नहीं रहा। मगर, दुबई की दुनिया में बैठे दानव के दो कौड़ी के किसी कमीने का भी फोन आ जाने पर अपराध कवर करनेवाले पत्रकारों को अपन ने बंदरों की तरह उछलते देखा है। अपने फोन पर अपराधी के आए किसी कॉल को हर तरह से प्रचारित करते भी उनको देखा हैं। लेकिन क्या किया जाए, यही उनका अपना स्तर है। लेकिन अपन अगर जिग्ना वोरा को गिरफ्तार होने से पहले नहीं जानते थे, तो उसके पीछे की वजह यही है कि मुख्यधारा की पत्रकारिता करनेवालों का अपराध कवर करनेवालों का वास्ता बहुत कम ही पड़ता है। और यह भी सच्चाई है कि मुंबई में अपने जैसे सैकड़ों पत्रकार और हैं, जिनने कल तक जिग्ना का तो क्या जे डे का नाम भी नहीं सुना था। मगर अब सब दोनों को उनके अपने अपने हालात और हश्र की वजह से जानने लगे हैं। और यह भी जानने लगे हैं कि कौन पत्रकार किस तरह से किस अपराधी की किन शर्तों पर पत्रकारिता का कारोबार कर रहा है।
अपराध तो हमारे स्वर्गीय साथी आलोक तोमर और अमरनाथ कश्यप ने भी कवर किया था। दाऊद से लेकर छोटा शकील और इकबाल डोसा से लेकर छोटा राजन तक सबसे कई कई बार व्यक्तिगत रूप से मिलकर आलोक तोमर ने बातचीत भी की और उनके इंटरव्यू भी छापे। मगर अपराध और अपराधियों का कहीं भी, कभी भी और किसी भी रूप से महिमा मंडन कतई नहीं किया। और जानने वाले तो यह सत्य भी जानते हैं, कि उस जमाने में आलोक तोमर के भारत सरकार से गहरे संबंधों को जानकर दाऊद ने उनके सामने सरकार से बात करने का संधी प्रस्ताव भी रखा था। मगर इतने बड़े गिरोहबाज दाऊद को भी आलोक तोमर ने कहा था कि अपराधियों का दूत बनने के बजाय वे मर जाना पसंद करेंगे। आलोक तोमर का यह टका सा जवाब सुनकर दुनिया को अपने इशारों से सन्न करनेवाला दाऊद खुद सन्न था। यह उनके पत्रकारिता की पूजनीय परंपराओं को निभाने का जज़्बा था। उनकी ही तरह से और भी कई लोग आज भी देश में अपराध कवर कर रहे हैं। लेकिन कोई उन पर उंगली नहीं उठा सकता।
लेकिन जिग्ना जेल में है। जेल में इसलिए, क्योंकि अपराध की खबरों का जुगाड़ करके अपना नाम करने की कोशिश में जिग्ना खुद अपराध का अहम हिस्सा बन गई। गिरफ्तारी का कारण यही माना जा रहा है कि जिग्ना की वजह से ही जे डे इस जहां से चले गए। अपना तो यह भी मानना है कि कहने भर को भले ही जे डे की मौत के लिए जिग्ना को जिम्मेदार बताया जा रहा हो, लेकिन वास्तविक सच्चाई यह भी है कि अपने अपने हश्र के लिए दोनों ही व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदार थे। जे डे के पास भी अपने जीवन में पत्रकारिता में सिर्फ अपराध ही कवर करने के अलावा और भी ढेर सारे विकल्प थे। जिग्ना भी गुंडो़ं की खबरों के अलावा अपनी दे्हयष्टि के मुताबिक कमसे कम ग्लैमर तो कवर कर ही सकती थी। लेकिन प्रकृति की परंपरा है कि दिमाग की जैसी तासीर होती है, वह आपके दिल को वैसी ही दिशा देता है और आपसे काम भी वैसा ही करवाता है। जिग्ना के जेल जाने की या जे डे के दुनिया से चले जाने का भले ही हमारे बहुत सारे अपराध कवर करनेवाले साथियों को संताप हो, मगर अपने को उनके दुख और दर्द से कोई वास्ता नहीं है। वास्ता इसलिए नहीं, क्योंकि दोनों ही पत्रकारिता करते करते अपराधियों की उंगलियों के इशारों पर काम करने लग गए थे। दोनों के मामले में अपना सिर्फ और सिर्फ यही मानना है कि यह उनका अपना ‘प्रोफेशनल रिजल्ट’ है। जिग्ना और जे डे की कहानी अपराध कवर करते करते खुद उसका हिस्सा बन जाने की है। अगर जिग्ना और जे डे तमीज़ से काम करते, तहज़ीब से पत्रकारिता करते और अपराधियों से संबंध बनाकर पत्रकारिता के पेशे की परंपरा को कलंकित नहीं करते, तो उनका यह हश्र कभी नहीं होता। यही वजह है कि इस पूरे मामले पर अपने को तो कमसे कम कोई दुख या संताप नहीं है। क्या आपको है ?
(लेखक जाने माने राजनीतिक विश्लेषक और वरिष्ठ पत्रकार हैं)
Sabhar-http://www.niranjanparihar.blogspot.in/

0 comments:

Post a Comment

Top Ad 728x90