Sakshatkar.com - Filmipr.com - Worldnewspr.com - Sakshatkar.org

क्या अब भी निर्मल बाबा के दरबार में आपबीती सुनाते हैं मंजे हुए आर्टिस्ट?


आर्य मनु।।
मैं आध्यात्मिक मीडिया से जुडा हूँ और अंदर का बहुत कुछ जानते हुए भी कभी उसके बारे में नहीं लिखता. कारण,साफ़ है, मेरी दुकानदारी भी इन्ही के आशीर्वाद से चलती है. दूसरे, समाज का बहुत बड़ा तबका किसी न किसी बाबा के साथ जुड़ा है..और वो भी हद तरीके से, कि कुछ विपरीत तो सुन ही नहीं सकते.
एक आध्यात्मिक चैनल के साथ काम करते करते लगभग हर प्रमुख संत के साथ कार्यक्रम संचालन का मौका मिला. यकीन मानिये, सभी तथाकथित गुरुओं का “परदे के पीछे” अन्य रूप था. केवल और केवल मोरारी बापू को मैंने अभी तक बेदाग़ पाया.
आज इस लेख में निर्मल बाबा की बात करते है. मैं उनके बारे में कुछ उल्टा पुल्टा न लिखते हुए बस कुछ प्रश्न आपके सामने रखना चाहूँगा …
1). फिलहाल बाबा के भारत के 16 राष्ट्रीय चैनलों, और 3 विदेशी चैनलों पर विदेशों में कार्यक्रम चल रहे है. केवल आस्था पर बीस मिनट का मासिक व्यय सवा चार लाख+टेक्स है, तो अन्य राष्ट्रीय समाचार चैनलों पर कितना लगता होगा ?
2). अगर बाबा के आशीर्वाद से सब कुछ हो सकता है तो इतने चैनल्स पर आने की क्या ज़रूरत?
3). समाचार चैनल्स को विज्ञापन रूपी कार्यक्रम (पेड प्रोग्राम) के रूप मिलने से वे अपने “क्लाइंट” नहीं खोना चाहते, इस से निर्मल बाबा के खिलाफ कोई खबर नहीं चलती…. क्या ये सच है? (बताते चलें, बाबा का हर प्रमुख न्यूज़ चैनल पर सुबह प्रोग्राम आता है)
4). अपने आरंभिक दिनों में नोएडा के फिल्मसिटी में स्थित एक स्टूडियो में शूटिंग करते वक़्त बाबा के सामने जो लोग अपनी समस्या के हल होने का दावा करते थे, वे असली लोग न होकर  “जुनियर आर्टिस्ट” हुआ करते थे ?
5). आज भी ये “आर्टिस्ट” बदस्तूर जारी है..??
6). बाबा के समाधान का एक उदहारण देखिये : आपके घर में गणेश जी की मूर्ति है ? अकेली है? नहीं..तो अकेली लगाओ.. हाँ तो लक्ष्मी जी के साथ लगाओ, इस से समृद्धि आएगी… दक्षिण में है तो उत्तर में लगाओ, उत्तर में है तो दक्षिण में लगाओ… खड़े है तो बैठे हुए गणेशजी लगाओ… बैठे है तो खड़े गणेश जी लाओ… क्या आपने इस स्थिति को महसूस नहीं किया ? माने आपकी हर बात का कोई न कोई जवाब… और फिर हर जगह लक्ज़री की बात !!!
7). बाबा के किसी शहर में जाने से पूर्व वह एक टीम पहले जाकर “मार्केटिंग” का काम संभालती है. और मार्केटिंग भी ऐसी वैसी नहीं… भारी वाली ? क्यों, जबकि बाबा तो अंतर्यामी है.. आपके घर की हर चीज़ आँखे बंद करके देख सकते है ??
8). युवराज के घरवालों के आरोप तो आपको पता होंगे। नहीं पता तो इस वीडियो को देखें
क्या आप को ढोंगी निर्मल बाबा की कमाई का अन्दाज़ा है ?
अगर आपको नही पता है तो फिर आप अच्छे से जान लीजिए..
[1]. 19 विभिन्न चैनल्स, जिसमे सोनी, ज़ी, स्टार ऐसे नेटवर्क है,जिनके मिडल ईस्ट, एशिया पैसिफिक,भी शामिल कर रहा हूँ, पर दिन मे कुल 33 बार बार के प्रोग्राम चलते है. एक प्रोग्राम का औसतन खर्च चार लाख मासिक है (33 से गुना स्वयं कर लीजिए. यह राशि 1 करोड़ बत्तीस लाख रुपये मासिक बनती है.)
[2]. इस पैसे को कवर करना पड़ेगा तो रोज़ प्रोग्राम करना ज़रूरी है अखिर प्रॉफिट भी तो चाहिए ना?
[3]. बाबा के आने वाले माह अप्रैल मे कुल 17 जगह समागम है. औसतन एक जगह 2500 लोगो को एंट्री मिलती है. 2500 का 2000 प्रति व्यक्ति गुना करने पर 50 लाख की राशि सीधे सीधे टिकट से मिल जाती है. इसके बाद चढ़ावे और व्यक्तिगत मिलन की तो बात ही नही कर रहा. अब अगर 17 कार्यक्रम का 50लाख से गुना करूँगा तो…. साढ़े आठ करोड़ से उपर जाएगा. इसमे सवा – सवा करोड़ टीवी वालो को दे दिए तो भी कम से कम 7 करोड़ एक महीने के बचे. अब आप ही बताइए, इनमे से हाल बुकिंग, कर्मचारी वेतन निकालने के बाद बाबा कितना कमा रहा होगा… बाबा के दरबार मे दो साल के child का भी पूरा टिकट लगता है.
[4]. बाबा को किसी भी प्रकार से दिया जाने वाला पैसा नों रिफंडेबल और नों ट्रांस्फ़ेरेबल है. ये सारी जानकारी मैने उनकी खुद की वेबसाइट ( निर्मल बाबा डॉट कॉम ) से ली है. आप खुद चेक कर सकते है.
टी वी चैनलों की ईजाद निर्मल बाबा सिर्फ एक दिन में चार करोड़ कमा कर अपने भक्तों का तो भला करें या न करें पर टी वी चैनलों का भला जरूर कर रहें हैं…!
Sabhar:- Mediadarbar.com
(26 वर्ष का युवा, झीलों के शहर उदयपुर से…फिलहाल नोएडा में स्पिरिचुअल मीडिया में कार्यरत…एमबीए करने के पश्चात मीडिया में आने का मन बनाया और साथ ही साथ समाज सेवा के लिए भी आगे बढ़ा…इंटरनेट एडिक्ट, फेनड्राय्ट, वर्ड गेमर, पार्ट टाइम एंकर और फुल टाइम “स्वामीजी”…दोस्तों की नज़रों में और शायद खुद की नज़रों में भी…बस यही मेरा परिचय है..)

No comments:

Post a Comment