हर अनिरुद्ध बहल नहीं बन सकता है ?

 अनिरुद्ध बहल जैसा  पत्रकार लाखो में एक होता है भाजपा नेता बंगारू को जेल की यात्रा करवाने में जुझारू पत्रकारिता  का बड़ा योगदान है आज के पत्रकार वक़्त से पहले ही बिक जाते है वह क्या ख़ाक पत्रकरिता करेगे .. ? देश में करप्शन कम नहीं हुआ बल्कि बढ़ा है 


यह सब जानते है । मीडिया का ग्राफ दिनों व दिन गिर रहा है । आखिर क्यों गिर रहा है मीडिया  का ग्राफ । एक सर्वे में पाया गया है लोग मीडिया को ज्वाइन नहीं करना चाहते है । मीडिया में जॉब की बढती  दिक्कत  से लोग  अलग नौकरियो में जा रहे है ? 

अब सवाल आता है फिर अनिरुद्ध बहल जैसे पत्रकार कहा से आयेगे । जो देश के घूसखोर - दलाल - लोंडिया बाज नेताओ को नंगा करके जेल पंहुचा सके । पत्रकार जमकर स्टिंग कर लेते है अगर देश के सभी पत्रकार अपने स्टिंग को सामने ले आये तो देश की सरकार हिल सकती है . मगर यह स्टिंग क्यों नहीं दिखाए जाते है इन पर क्यों रोक लगा दी जाती है । 

स्टिंग होने के बाद ही खरीद फरोक्त का धंधा चालू हो जाता है पहले जिसका स्टिंग किया गया उससे ही सौदे बाजी होती है अगर सौदा  पट जाता है तो स्टिंग नहीं दिखाया जायेगा ,  अगर   पैसा नहीं मिला तो स्टिंग को सरे आम कर दिया जाता है । 

कांग्रेस के नेता सिंघवी की सीडी  को  टीवी चेन्नल पर न दिखाया जाना ,क्या कम बड़ी बात है । हम भूल गए भाई केंद्र में कांग्रेस की सरकार है । हम देश के सभी पत्रकारों को सलाम करते है जो देश के लिए काम कर रहे है जिसने अभी तक अपना जमीर नहीं बेचा है ।

सुशील गंगवार
मीडिया दलाल.कॉम 
बॉलीवुड दलाल.कॉम 
हर अनिरुद्ध बहल नहीं बन सकता है ? हर अनिरुद्ध बहल नहीं बन सकता है ? Reviewed by Sushil Gangwar on April 28, 2012 Rating: 5

No comments

Post AD

home ads