हिंदी के वैश्विक प्रचार- प्रसार


हिंदी के वैश्विक प्रचार- प्रसार में आज ' न्यू मीडिया 'विशेष भूमिका निभा रहा है और धीरे -धीरे  मुख्यधारा के लोग भी इसे मानने लगे हैं |  इसी क्रम में हिंदी सेवी संस्था द्वारा जनोक्ति.कॉम के संस्थापक और प्रधान संपादक जयराम विप्लव को राजभाषा हिंदी प्रचार सम्मान “ दिया गया भारतीय सांस्कृतिक सम्बन्ध परिषद के सहयोग से आयोजित विश्व हिंदी दिवस’ के कार्यक्रम में हिन्दी के प्रचार में उल्लेखनीय योगदान के लिए विप्लव सहित पांच पत्रकार शिला मिश्रआलोक कुमार ,विजय झा और मधुरेन्द्र कुमार सम्मानित किये गए |

कार्यक्रम प्रबंधक मृगांक विभु ने बताया कि जयराम विप्लव को इंटरनेट पर जनोक्ति के माध्यम से हिंदी खोज को प्रोत्साहन देने और पाठकों के लिए हिंदी में स्तरीय सामग्री उपलब्ध कराने हेतु सम्मानित किया गया 

इस मौके पर कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे पद्मश्री श्याम सिंह शशि ने कहा कि आज युवा पीढ़ी के मन हिंदी के प्रति प्रेम और हिंदी के प्रचार-प्रसार में उनके योगदान को देखकर ऐसा लगता है जल्द ही हिंदी विश्व की भाषा बनेगी | कार्यक्रम में भारतीय सांस्कृतिक सम्बन्ध परिषद के महानिदेशक डॉ सुरेश गोयल मुख्य अतिथि के रूप में तथा डॉ हीरालाल बाछोतिया,डॉ रमण सिन्हा,डॉ नारायण कुमार,श्रवण कुमार उर्मलिया और श्री सतपाल विशिष्ट अतिथि के रूप में मौजूद थे जबकि स्वागत डॉ महेशचन्द्र शर्मा ने किया |









हिंदी के वैश्विक प्रचार- प्रसार हिंदी के वैश्विक प्रचार- प्रसार Reviewed by Sushil Gangwar on January 21, 2012 Rating: 5

No comments