मुंबई क्राइम ब्रांच से आया फोन, कंप्लेन का जवाब दो


कल शाम एक फोन आया जिसमें उधर से कहा गया कि मुंबई क्राइम ब्रांच से बोल रहा हूं, एक कंप्लेन है, मेल आईडी दीजिए. मैंने मेल आईडी एसएमएस कर दिया. जो कंप्लेन मेल पर प्रकट हुआ, उसे देखकर माथा पीटने का मन कर गया. पी7न्यूज के मुंबई ब्यूरो चीफ संजय प्रभाकर से संबंधित कुछ खबरें कई अखबारों में छपी थीं, जिनके लिंक किसी सज्जन ने मेल कर दिए भड़ास को और वे सारी खबरें भड़ास पर प्रकाशित कर दी गईं.
मतलब, नवभारत टाइम्स, मिड डे आदि की खबरों, जिनमें संजय प्रभाकर का नाम है, के भड़ास पर प्रकाशन से संजय प्रभाकर पिनक गए और मुंबई सीआईडी की क्राइम ब्रांच पहुंच गए. न्यू मीडिया, सोशल नेटवर्किंग साइट्स, ब्लाग आदि पर सेंसरशिप के सरकारी प्रस्तावों पर चल रही बहस के इस दौर में एक पत्रकार ही दूसरे पत्रकार को पुलिस के जरिए सबक सिखाने की जुगत में लगा हुआ है, वह भी तब जब प्रकाशित कंटेंट कहीं और प्रकाशित हो चुका है और उस कंटेंट के मीडियाकर्मियों से संबंधित होने के कारण उसका प्रकाशन भड़ास4मीडिया पर किया गया.
अरे यार, शिकायत करते तो किसी ऐसी खबर की करते जिसे ओरीजनली हम लोगों ने प्रकाशित किया हो. पहले तुम नवभारत टाइम्स, मिडडे आदि की कंप्लेन करो, लड़ो और जीतो, फिर तब हमारे पास आना. पर इतनी औकात कहां कि संजय प्रभाकर नवभारत टाइम्स, मिडडे आदि से भिड़ जाएं. उन्हें तो आसान, सरल और सहज मुर्गा भड़ास दिखता है क्योंकि इसका संचालक सड़क छाप है, डाउनटूअर्थ है, आर्थिक रूप से सक्षम नहीं है.
फिर भी, संजय के प्रति मेरे मन में कोई गुस्सा या दुर्भावना नहीं है क्योंकि इस सिस्टम में अगर कोई व्यक्ति किसी से किसी रूप में पीड़ित महसूस करता है तो उसे लोकतांत्रिक तरीके से न्याय पाने का हक है और इस न्याय पाने की प्रक्रिया का पहला चरण ही होता है शिकायत दर्ज कराना. हालांकि इस कंप्लेन में दम नहीं है, फिर भी शिकायत को यहां इसलिए प्रकाशित किया जा रहा है ताकि कानूनी रूप से सक्षम साथी बता सकें कि इसका जवाब क्या और किस रूप में दिया जाए. yashwant@bhadas4media.com के जरिए मुझ तक अपनी राय पहुंचा सकते है.
यशवंत
एडिटर
भड़ास4मीडिया

from DCP Preventive, Mumbai
to me Yashwant
As per our telephonic communication with Mr. Yashwant Singh, please find the attachment and do the needful as early as possible. Thanking you in anticipation for quick reply. yours faithfully
Sd/-
(Nandkishor More)
Sr. Inspector Of Police
Cyber Police Station

----- Original Message -----
From: "DCP Preventive,Mumbai" ( dcppreventive-mum@mahapolice.gov.in)
Date: Thursday, November 10, 2011 2:22 pm
Subject: Provide details about blog /160 /B/ims/11
Cyber Police Station
Crime Branch, C.I.D.,
Mumbai
1st Floor, Bandra Kurla Police Station, B.K.C.,
Bandra (E), Mumbai – 400 051.
022-24691497/26504008

O.W. No.7980/CyPS/ims/11. Date :- 10/11/2011

To
The Chief Technical Officer,
BHADAS4MEDIA.COM
Sub. :-  Provide details about blog /160 /B/ims/11
Sir,
This office is enquiring into a matter in which complainant is a chief of Bureau P7 NEWS Mumbai. In the below mentioned blog, blogger posted the collected information from India’s well-known newspaper called ‘Navbharat Times’. Thus,blogger tries to defame the complainant by using article in news as a tool.

Therefore you are kindly requested to please send below mentioned blogs creator’s details as well as log in log out details.

Blog Link:- http://bhadas4media.com/edhar-udhar/306-2011-11-05-10-23-28.html

You are requested to provide following Information.

Profile of the Blogs creator and creation I.P. of the same

1) Login details of user from creation  to till date viz. Date, Time & IP address

2) Address book and Scraps details of the user

3) Any optional email ID given by the user during creation of the above noted blogs.

Thanking you in anticipation for quick reply.

Yours Faithfully

(Nandkishor More)

Sr. Inspector of Police,

Cyber Police Station

Mumbai – 400 051

Tel. -022-26504008/24691497

Cyber Police Station
Crime Branch, C.I.D.,
Mumbai
1st Floor, Bandra Kurla Police Station, B.K.C.,
Bandra (E), Mumbai – 400 051.
Email ID :- dcppreventive-mum@mahapolice.gov.in
022-24691497/26504008


O.W. No.7980/CyPS/ims/11. Date :- 10/11/2011
Code of Criminal Procedure. 1973
Sec. 91.Summons to produce document or other thing: -

(1) Whenever any Court or any officer in charge of police station considers that the any production of any document or other things is necessary or desirable for the purpose of any investigation, inquiry, trial or other proceedings under this code       by or before such Court may issue a summons, or such officer a written order, to the person in whose possession or power such document or thing is believed to be, requiring him to attend and produce it, or to produce it, at the time and place stated in the summons or order.

(2) Any person required under this section merely to produce a document or other things shall be deemed to have complied with the requisition, if he causes such documents or thing to be produced instead of attending personally to produce the same.

(3) Nothing in this section shall be deemed—

(a) To affect Section 123 and 124 of the Indian Evidence Act 1872 (1 of 1872) or the bankers’ Books Evidence Act, 1891(13 of 1891), or

(b) To apply to a letter, postcard, telegram or other document or any parcel or thing in the custody of the postal or telegraph authority.
Sabhar:- Bhadas4media.com
मुंबई क्राइम ब्रांच से आया फोन, कंप्लेन का जवाब दो मुंबई क्राइम ब्रांच से आया फोन, कंप्लेन का जवाब दो Reviewed by Sushil Gangwar on December 16, 2011 Rating: 5

No comments